प्रधानमंत्री डॉक्टर मनमोहन सिंह कहां हैं?

  • 8 अप्रैल 2014
मनमोहन सिंह

पिछले 10 सालों से जो चेहरा हमेशा टेलीविज़न के परदे पर नमूदार रहा हो, आपके ज़हन में छाया रहा हो, भले ही उन्हें सुना कम और देखा अधिक गया हो, वो अब अचानक कहां ग़ायब हो गए हैं?

कहां हैं प्रधानमंत्री डॉक्टर मनमोहन सिंह? नरेंद्र मोदी हर जगह छाए हुए हैं. सोनिया गांधी और उनके बेटे राहुल गांधी भी नज़र आ जाते हैं. यहां तक कि आम आदमी पार्टी के अरविंद केजरीवाल भी दिख जाते हैं. लेकिन खास तौर से चुनाव के समय डॉक्टर साहब कहां चले गए.

(ऐसे दिखते हैं मनमोहन)

पिछले महीने कांग्रेस पार्टी के घोषणा पत्र जारी करने के समय वो सोनिया गांधी और राहुल गांधी के साथ नज़र ज़रूर आए थे लेकिन पार्टी की चुनावी सरगर्मियों से वो लगभग अलग हैं. उन्होंने अब तक केवल दो चुनावी रैलियों को संबोधित किया है जो असम और केरल में थीं.

कुछ दिनों में वो दिल्ली में एक आम सभा में भाषण देने वाले हैं लेकिन तारीख अब तक तय नहीं हुई है. पार्टी के कुछ नेताओं ने मुझे बताया कि मनमोहन सिंह को हटाया नहीं गया है बल्कि वो खुद चाहते हैं कि राहुल गांधी ही रैलियों को संबोधित करें. वो अब रिटायरमेंट की तैयारी में जुट गए हैं.

उम्मीदवारों के न्यौते

लेकिन सार्वजनिक ज़िन्दगी से टिमटिमाकर नज़रों से ओझल होने वाले डॉक्टर सिंह पार्टी के अंदर अब भी सक्रिय हैं. उन्होंने उम्मीदवारों के नामों को चुनने के लिए पार्टी की चुनाव समिति की 10 बैठकों में भाग लिया है और पार्टी के घोषणा पत्र को आखिरी रूप देने में भी उनकी भूमिका रही है.

(चूक गए राहुल गाँधी)

लेकिन ये चुनावी रैलियां हैं जहां मनमोहन सिंह नज़र नहीं आ रहे हैं. पार्टी के अनुसार राहुल गांधी और सोनिया गांधी 160 चुनावी सभाओं को संबोधित करेंगे जिन में से केवल आठ मनमोहन सिंह के नाम हैं और वो भी पूरी तरह से तय नहीं है.

एक नेता ने कहा, "राहुल सात अप्रैल के बाद चुनावी प्रचार के अंत तक 100 रैलियों को संबोधित करेंगे, सोनिया 60 और मनमोहन सिंह केवल आठ." इस चुनाव के दौरान कांग्रेस के केवल 35 उम्मीदवारों ने प्रधानमंत्री से चुनावी सभाओं में भाषण देने का अनुरोध किया है. मनमोहन सिंह इन सभी उम्मीदवारों के न्यौते स्वीकार नहीं करेंगे.

अगर आप को 2009 का आम चुनाव याद हो तो हाल बिलकुल उलटा था. डॉक्टर मनमोहन सिंह चुनावी मुहिम में आगे आगे थे और उन्होंने कई दर्जन भाषण दिए थे. लेकिन इस बार उनकी मांग भी कम हो गई है और राहुल गांधी की पार्टी पर पकड़ भी मज़बूत हुई है जिसके कारण मनमोहन सिंह की ज़रूरत कम ही महसूस हो रही है.

राजनीतिक भाषण

दूसरी तरफ कई उम्मीदवार ये मानते हैं कि प्रधानमंत्री के कारण ही आज पार्टी की हालत इतनी ख़राब है. उनके अनुसार प्रधानमंत्री ने यूपीए-2 सरकार की उपलब्धियों को ठीक से नहीं गिनाया है. अपने 10 साल के कार्यकाल में कम बोलना डॉक्टर सिंह की पहचान बन गई थी. इस अर्से में उन्होंने केवल 33 प्रेस कॉन्फ्रेंस को संबोधित किया.

(मनमोहन से सहमत हैं मोदी)

उन्होंने इन 10 सालों में 1197 भाषण दिए जिनमें राजनीतिक भाषण शामिल नहीं हैं. राहुल गांधी और उनकी मां सोनिया गांधी सभी चुनावी सभाओं को संबोधित कर रहे हैं लेकिन सच तो ये है कि पार्टी के अंदर और बाहर डॉक्टर मनमोहन सिंह की कमी खल भी नहीं रही है.

कांग्रेस के एक नेता ने कहा कि मनमोहन सिंह लापता नहीं हुए हैं. उन्होंने राहुल गांधी के हक़ में बैक सीट ले ली है. मनमोहन सिंह ने खुद ही ऐसे संकेत दिए हैं कि वो अब संन्यास लेना चाहते हैं लेकिन वो साल 2019 तक राज्यसभा के सदस्य रहेंगे. अगर वो चाहें तो अब भी पार्टी की राजनीति में सक्रिय रह सकते हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार