बिहार में नक्सली हमले के बीच हुआ मतदान

  • 10 अप्रैल 2014
बिहार मतदान

बिहार की नक्सल प्रभावित छह लोकसभा सीटों पर हिंसा के बीच मतदान हुआ.

जमुई लोकसभा क्षेत्र में गुरुवार सुबह ही नक्सलियों ने सीआरपीएफ़ के गश्ती दल को निशाना बनाया. इसमें दो जवान मारे गए जबकि छह घायल हो गए. घायलों की हालत गंभीर है और उन्हें बेहतर इलाज के लिए पटना ले जाया गया है.

नक्सली हमले की घटना का असर कई इलाक़ों में पड़ा.

पुलिस अधीक्षक जीतेंद्र राणा ने बीबीसी को बताया कि लोकसभा क्षेत्रके कुछ इलाक़ों में विस्फोटक बरामद होने के कारण 19 मतदान केंद्रों पर मतदान स्थगित कर दिया गया है. अब यहां शनिवार को मतदान होगा.

नक्सली हिंसा

जमुई से लोक जनशक्ति पार्टी और भाजपा गठबंधन के उम्मीदवार चिराग पासवान का कहना है कि प्रशासन ने दावा किया था कि वह शांतिपूर्ण तरीके से मतदान कराएगा.

चिराग पासवान ने कहा, “प्रशासन ने दावे तो कई किए थे. लेकिन अगर ऐसी घटना हुई है, तो कहीं न कहीं इनसे चूक हुई है.”

जमुई लोकसभा क्षेत्र में चिराग पासवान के अलावा बिहार विधानसभा के अध्यक्ष उदय नारायण चौधरी जनता दल-यू के टिकट पर चुनाव लड़ रहे हैं. जबकि राष्ट्रीय जनता दल के उम्मीदवार हैं सुधांशु शेखर भास्कर.

जमुई और आसपास के इलाक़ों में मतदान केंद्रों पर विभिन्न पार्टियों के समर्थन और विरोध में लोगों ने अपने-अपने तर्क दिए.

कई लोगों ने विकास को अपना मुद्दा बताया, तो किसी को बिजली और बेरोजगारी की समस्या सबसे गंभीर लगती है. कई महिलाओं को अपने इलाक़े में अस्पताल न होने की काफ़ी चिंता है.

जमुई के अलावा बिहार में आज सासाराम, काराकाट, नवादा और गया में भी मतदान हुआ. ये सभी नक्सली हिंसा से प्रभावित इलाक़े हैं.

सासाराम से मीरा कुमार अपना भाग्य आज़मा रही हैं. भाजपा नेता गिरिराज सिंह नवादा और कांग्रेस के टिकट पर निखिल कुमार औरंगाबाद से चुनाव लड़ रहे हैं.

(बीबीसी हिंदी का एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें. आप ख़बरें पढ़ने और अपनी राय देने के लिए हमारे फ़ेसबुक पन्ने पर भी आ सकते हैं और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार