'टॉफ़ी-गुब्बारे' में उलझे राहुल-मोदी

राहुल गाँधी बनाम नरेंद्र मोदी इमेज कॉपीरइट Getty

कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गाँधी ने गुजरात के विकास मॉडल पर की गई अपनी 'टॉफ़ी टिप्पणी' को सही ठहराया है.

राहुल गाँधी ने आगरा में कहा था कि नरेंद्र मोदी की सरकार ने उदयोगपतियों को एक रुपए वर्गमीटर की दर से ज़मीन दी है. यह क़ीमत टॉफ़ी की क़ीमत के बराबर ही है.

दूसरी ओर बिहार के हज़ारीबाग़ में नरेंद्र मोदी ने राहुल गाँधी की टिप्पणी पर जबाव देते हुए कहा कि राहुल का दिमाग़ बच्चों जैसा है और इसीलिए वो महंगाई और बेरोज़गारी जैसे महत्वपूर्ण मुद्दों के बजाए हमेशा टॉफ़ियों और गुब्बारों के बारे में ही सोचते हैं.

बालकमन

मोदी ने कहा, "मुझे उम्मीद थी कि देश के सामने जो मुद्दे हैं उन पर बीजेपी और कांग्रेस के बीच गंभीर बहस होगी, लेकिन मैं निराश हो गया हूँ. समझ में नहीं आता कि कांग्रेस टॉफ़ियों और गुब्बारे जैसी बचपन की चीज़ों में डूबे बालकमन के नेता को क्यों सामने लाई है."

उन्होंने कहा कि पंद्रह दिनों तक राहुल गाँधी का मन गुब्बारे में उलझा रहा और एक ही खिलौने से खेलकर थक गए और अब किसी बच्चे की तरह वे अब टॉफ़ी की बातें कर रहे हैं.

मोदी ने कहा, "यह बालक मन गुब्बारे और टॉफ़ी से बाहर निकल ही नहीं पा रहा है. उनके लिए टॉफ़ी ही सबकुछ है लेकिन हमारा मिशन विकास के क्षेत्र में देश के लिए नई-नई ट्राफ़ियाँ अर्जित करना है."

इमेज कॉपीरइट Reuters

टॉफ़ी की क़ीमत पर ज़मीन

आगरा में मंगलवार रात करीब नौ बजे एक रैली को संबोधित करते हुए राहुल गाँधी ने कहा कि गुजरात सरकार ने किसानों की क़रीब पैंतालिस हज़ार एकड़ ज़मीन का अधिग्रहण कर उसे उद्योगपतियों को एक रुपए प्रति वर्गमीटर के टॉफ़ी की क़ीमत जितने दाम पर दे दिया.

राहुल गाँधी ने कहा कि इस ज़मीन पर मॉल और दुकाने बनेंगी लेकिन ग़रीबों को रोटी-कपड़ा नहीं मिल पाएगा.

राहुल गाँधी ने कहा, "आप एक रुपए में टॉफ़ी ही ख़रीद सकते हैं लेकिन गुजरात में सरकार ने उद्योगपतियों को एक रुपए वर्गमीटर के हिसाब से ज़मीन दे दी है. इसलिए ही मैंने गुजरात के विकास मॉडल को टॉफ़ी मॉडल की संज्ञा दी है."

उन्होंने यह भी कहा कि गुजरात का विकास मॉडल किसी हवा भरे गुब्बारे की तरह हैं जो सुई चुभोने पर फट जाएगा.

राहुल ने कहा कि 2004 में इंडिया शाइनिंग का दावा खोखला साबित होने के बाद अब भारतीय जनता पार्टी गुजरात विकास मॉडल लेकर आई है. यह मॉडल ग़रीबों का रोजगार छीन रहा है जबकि

कांग्रेस सभी ग़रीबों और शोषितों के उत्थान के लिए काम कर रही है.

इससे पहले सोमवार को राहुल गाँधी ने महाराष्ट्र के हिंगोली में एक चुनावी रैली को संबोधित करते हुए गुजरात के विकास मॉडल को टॉफ़ी मॉडल की संज्ञा दी थी.

(बीबीसी हिंदी का एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए यहां क्लिक करें. आप ख़बरें पढ़ने और अपनी राय देने के लिए हमारे फ़ेसबुक पन्ने पर भी आ सकते हैं और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार