उन्हें हराउंगी ज़रूर, कितने मतों से पता नहीं: मीसा भारती

मतदान करने जातीं मीसा भारती इमेज कॉपीरइट Manish Saandilya

लोकसभा चुनाव के पांचवें चरण में बिहार की जिन सात सीटों के लिए गुरुवार को मतदान हो रहा है, उनमें राजधानी पटना की पाटिलपुत्र सीट भी शामिल है.

पाटिलपुत्र से राष्ट्रीय जनता दल के प्रमुख लालू प्रसाद की बेटी मीसा भारती चुनाव लड़ रही हैं. उनका मुक़ाबला भारतीय जनता पार्टी के रामकृपाल यादव और निवर्तमान सांसद जनता दल (यूनाइटेड) के रंजन यादव से है.

मीसा भारती ने मतदान के दौरान बूथ पर कब्जा करने का आरोप लगाया है.

उन्होंने कहा, "जब वो पोलिंथ बूथ पर पहूंची तो वहां कुछ लोग बूथ पर कब्जा करके वोटिंग कर रहे थे, उन्होंने विरोध किया और वहां हाथापाई भी हुई. मेरे वहां से चले आने के बाद उल्टा मुझ पर ही आरोप लगा दिए गए."

निर्वाचन आयोग के अजय नायक ने कहा कि वो इन आरोपों की जांच कर रहे हैं.

पाटिलपुत्र सीट से कांग्रेस पार्टी ने भोजपुरी फ़िल्मों के अभिनेता कुणाल सिंह यादव को अपना उम्मीदवार बनाया है.

रामकृपाल यादव पहले राजद में ही थे लेकिन टिकट न मिलने की वजह से वो पार्टी छोड़कर भाजपा में शामिल हो गए थे.

मतदान करने पहुँची मीसा भारती ने बीबीसी को बताया, "मैं अपने निकटतम प्रतिद्वंद्वी को कितने मतों से हराउंगी इसका तो पता नहीं. लेकिन मैं उन्हें हराउंगी ज़रूर."

उनके क्षेत्र में मुद्दे तो बहुत सारे हैं, लेकिन मुख्य मुद्दा मूलभूत सुविधाओं का है. इसके अलावा युवाओं और महिलाओं की समस्याएं हैं, जो उनकी प्राथमिकताओं में हैं.

वादा

मीसा भारती ने कहा, "पाटिलपुत्र पटना से सटा हुआ इलाक़ा है. वहां बिहटा में हमारे ही प्रयासों से आईआईटी खुला है. इस बार हमने उसे आईटी और एजुकेशनल हब की तरह विकसित करने का वादा किया है."

पहली बार चुनाव लड़ रही मीसा भारती ने अपने चुनाव प्रचार में सोशल मीडिया का भी जमकर प्रयोग किया.

फ़ेसबुक और ट्विटर पर चुनाव प्रचार के सवाल पर मीसा ने कहा, "देखिए आज के युवाओं के लिए कुछ अलग तरह का प्रचार चाहिए होता है. वे फ़ेसबुक और ट्विटर से जुड़े रहते हैं. इसलिए चुनाव प्रचार में हमने फ़ेसबुक और ट्विटर का प्रयोग किया और इसका लाभ भी हमे मिलेगा."

हर बार मतदान के लिए अपने पिता और माँ के साथ आने वाली मीसा भारती इस बार अकेले ही मतदान करने पहुँची.

उन्होंने बताया कि उन्हें मतदान के बाद अपने क्षेत्र में भी जाना है, इसलिए अकेले ही मतदान करने आई हैं, लालू जी भी बाद में आएंगे.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार