सिलिकन वैली के सुपरस्टार्स को जिताएगा बंगलौर?

  • 17 अप्रैल 2014
नंदन नीलेकणि इमेज कॉपीरइट PTI

भारत की सिलिकॉन वैली यानी बंगलौर में चार लोकसभा सीटें है जहां गुरूवार को मतदान होने हैं.

आईटी उद्योग के गढ़ के रूप में स्थापित इस शहर में कई दिग्गज़ों की आन दांव पर लगी हुई है. बंगलौर उन चुनाव क्षेत्रों में से भी एक हैं जहां सबसे ज़्यादा करोड़पति उम्मीदवार चुनाव लड़ रहे हैं.

चुनावों में खड़े उम्मीदवारों पर रिसर्च करने वाली संस्था असोसिएशन ऑफ़ डेमोक्रेटिक रिफ़ॉर्म्स के प्रोफ़ेसर त्रिलोचन शास्त्री के अनुसार, 'कर्नाटक के 28 सीटों में से 27 सीटों पर खड़े कांग्रेस के उम्मीदवार करोड़पति हैं, जबकि भाजपा के 26 उम्मीदवार और जनता दल सेक्युलर के 21 उम्मीदवार करोड़पति हैं.'

आइए जानते हैं क़तार में आगे खड़े कर्नाटक के कुछ सबसे अमीर उम्मीदवारों के बारे में.

नंदन निलेकनी

भारत में आधार कार्ड परियोजना लाने वाले नंदन निलेकनी अब तक दाखिल किए गए उम्मीदवारी पर्चों में दी गई जानकारियों के अनुसार देश के सबसे रईस उम्मीदवार हैं.

नंदन निलेकनी ने अपने चुनावी एफ़िडेविट में खुद की और अपनी पत्नी की कुल चल-अचल संपत्ति सात हज़ार सात सौ दस करोड़ रुपए की बताई है.

यूनीक आइडेंटिफ़िकेशन अथोरिटी ऑफ़ इंडिया के चेयरमैन के पद से इस्तीफ़ा देकर 58 वर्षीय निलेकनी चुनावी मैदान में कूद चुके हैं और बंगलौर दक्षिण लोकसभा सीट से भारतीय जनता पार्टी के बड़े नेता अनंत कुमार के खिलाफ़ चुनाव लड़ रहे हैं.

निलेकनी भारत की तीसरी सबसे बड़ी आईटी कंपनी इंफ़ोसिस के सह-संस्थापक भी हैं.

ज़ाहिर है चुनावी संपर्क बढ़ाने और लोगों तक अपनी बात पहुंचाने के लिए उन्होंने सूचना और प्रौद्योगिकी का जमकर इस्तेमाल भी किया.

विशेष ज़रूरतों के अनुसार तैयार की गई डिजिटल रणनीति से नंदन निलेकनी बंगलौर दक्षिण के वोटरों से सीधे संवाद स्थापित करने में सफल रहे.

फ़ेसबुक से लेकर ट्विटर तक और ईमेल से लेकर वेबसाइटों पर बैनर्स तक, बंगलौर दक्षिण के वोटरों को नंदन हर जगह दिखने लगे.

विपक्षी पार्टियों के उम्मीदवारों ने भी ऐसी रणनीति अपनाने की कोशिश की लेकिन वो उसकी गतिशीलता बरकरार नहीं रख पाए.

उनके प्रमुख प्रतिद्वंद्वी अनंत कुमार राष्ट्रीय मुद्दों और प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार नरेंद्रे मोदी के नाम पर वोट मांग रहे हैं, तो नंदन ने स्थानीय मुद्दों को प्राथमिकता दी. जो कि मोटे तौर पर बाक़ी भारत की ही तरह पानी, बिजली, सड़क, मूलभूत सुविधा में बेहतरी से संबंधित है.

वी बालाकृष्णन

इमेज कॉपीरइट PTI

कर्णाटक के तीसरे सबसे रईस उम्मीदवार आईटी कंपनी इंफ़ोसिस के पूर्व निदेशक वेंकटरमन बालाकृष्णन हैं, जो आम आदमी पार्टी के टिकट पर बंगलौर सेंट्रल सीट से लोकसभा चुनाव लड़ रहे हैं.

चुनाव आयोग को दिए दस्तावेज़ में 48 वर्षीय बालाकृष्णन ने अपनी चल-अचल संपत्ति 189 करोड़ की बताई है.

साल की शुरूआत में आईटी कंपनी इंफ़ोसिस में बड़ा पद छोड़कर राजनीति में आए वी बालाकृष्णन स्थानीय मुद्दों पर जनता से वोट मांग रहे हैं. सबके लिए पीने के साफ़ पानी की व्यवस्था, बेहतर सड़कें और शिक्षा उनके प्रमुख मुद्दे हैं.

दिल्ली विधानसभा चुनाव में आम आदमी पार्टी के प्रदर्शन से उत्साहित बालाकृष्णन मानते हैं कि इस बार के लोकसभा चुनाव के नतीजे चौकाने वाले हो सकते हैं.

बंगलौर सेंट्रल सीट पर उनके ख़िलाफ़ खड़े हैं भारतीय जनता पार्टी के मौजूदा सांसद पीसी मोहन और कांग्रेस से रिज़वान अरशद.

आर प्रभाकर रेड्डी

खेती-बाड़ी से संबंधित परिवार में जन्में आर प्रभाकर रेड्डी ने 15 साल की उम्र में ईंट बनाने वाली एक ईकाई शुरू की और अगले दो दशकों में उनका नाम और व्यापार दोनों तरक्की की सीढ़ियां चढ़ता गया.

एचडी देवे गौड़ा की पार्टी जनता दल सेक्युलर की तरफ़ से बंगलौर-ग्रामीण लोकसभा सीट के लिए भरे पर्चे में उन्होंने अपनी कुल संप्पति दौ सौ चौबिस करोड़ की बताई है.

42 वर्षीय रेड्डी की पार्टी किसानों और बुनकरों की कर्ज़ माफ़ी, बेहतर शिक्षा, बेहतर चिकित्सा सुविधा और वृद्धावस्था पेंशन स्कीमों को लागू किए जाने का वादा करती है.

इसके अलावा रेड्डी की पार्टी 'राइट टू सर्विस' और सरकारी कामकाज पर निगरानी के लिए 'तीसरी आंख' यानी सरकारी दफ्तरों को सीसीटीवी कैमरों के नेटवर्क से जोड़ने की भी बातें करती है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार