गिरिराज और तोगड़िया के बयानों से असहमत मोदी

गिरिराज सिंह इमेज कॉपीरइट PTI

भाजपा के प्रधानमंत्री पद के दावेदार नरेंद्र मोदी ने पार्टी नेता गिरिराज सिंह और विहिप के नेता प्रवीण तोगड़िया के बयान को लेकर पैदा हुए विवाद के बीच कहा है कि वो इस तरह के ग़ैर ज़िम्मेदार बयानों से सहमत नहीं हैं.

माइक्रो ब्लॉगिंग वेबसाइट ट्विटर पर नरेंद्र मोदी ने लिखा है, "इस तरह के बयान देने वालों से मैं अपील करता हूँ कि वे ऐसे बयान देने से बचें."

उन्होंने कहा है कि इस तरह के संकीर्ण बयान देकर ख़ुद को भाजपा का शुभचिंतक साबित करने वाले लोग वास्तव में अभियान को विकास और अच्छे प्रशासन के मुद्दे से भटकाना चाहते हैं.

भाजपा नेता गिरिराज सिंह ने झारखंड के झारखंड के देवघर में एक कथित भड़काऊ भाषण दिया था. इस मामले में उनके ख़िलाफ़ देवघर, बोकारो और पटना में तीन मामले दर्ज कराए गए हैं.

वहीं चुनाव आयोग ने गुजरात के भावनगर ज़िला प्रशासन को विश्व हिंदू परिषद (विहिप) के नेता प्रवीण तोगड़िया के कथित भड़काऊ भाषण को लेकर एफ़आईआर दर्ज करने का आदेश दिया है.

आयोग ने उनके भाषण का टेप भी मांगा है. तोगड़िया ने अपने भाषण में कथित तौर पर हिंदू बहुल इलाक़ों में बसे मुसलमानों को बलपूर्वक निकालने की बात कही थी.

आचार संहिता का उल्लंघन

समाचार एजेंसियों के मुताबिक़ चुनाव आयोग के नोटिस का जवाब न देने और पटना हवाई अड्डे पर पहले की ही तरह भड़काऊ बयान देने के बाद गिरिराज सिंह के ख़िलाफ़ झारखंड के बोकारो ज़िले के हारला थाने में मामला दर्ज कराया गया है.

बिहार के अतिरिक्त मुख्य चुनाव अधिकारी आर लक्ष्मणन ने मीडिया को बताया कि गिरिराज सिंह के बयान को आदर्श आचर संहिता का उल्लंघन मानते हुए चुनाव आयोग ने पटना के ज़िलाधिकारी को उन पर मामला दर्ज करने को कहा है.

चुनाव अधिकारी के मुताबिक़ ज़िला प्रशासन को कहा गया है कि वह गिरिराज सिंह को अपना जवाब दाखिल करने लिए 24 घंटे का समय दे.

भाजपा नेता गिरिराज सिंह ने शनिवार को झारखंड के गोड्डा में आयोजित जनसभा में कहा था, ''जो लोग नरेंद्र मोदी को रोकना चाहते हैं, वे पाकिस्तान की ओर देख रहे हैं. आने वाले दिनों में उनके लिए भारत में कोई जगह नहीं होगी. उनके लिए बस पाकिस्तान में जगह बचेगी.''

जिस रैली में गिरिराज सिंह ने ये भाषण दिया उसमें बीजेपी के पूर्व अध्यक्ष नितिन गडकरी भी मौजूद थे.

पार्टी ने झाड़ा पल्ला

इमेज कॉपीरइट bbc

उनके इस भाषण की सभी राजनीतिक दलों ने आलोचना की थी. वहीं उनकी पार्टी न इससे दूरी बनाते हुए कहा था कि यह उनका निजी बयान था. इससे पार्टी का कोई लेनादेना नहीं है.

उनके इस बयान पर झारखंड के देवघर ज़िले के मोहनपुर पुलिस थाने में जनप्रतिनिधि क़ानून की विभिन्न धाराओं के तहत मामला दर्ज कराया गया था.

उधर, चुनाव आयोग ने सोमवार शाम गुजरात के भावनगर ज़िला प्रशासन को कथित भड़काऊ भाषण देने के लिए विश्व हिंदू परिषद (विहिप) नेता प्रवीण तोगड़िया के ख़िलाफ़ एफ़आईआर दर्ज करने का आदेश दिया.

तोगड़िया ने अपने कथित बयान में हिंदू बहुल इलाक़ों से मुसलमानों को बलपूर्वक निकालने की बात कही थी. संवाददाताओं से गुजरात की मुख्य चुनाव अधिकारी अनीला रावल ने कहा, ''भावनगर मामले की हम जांच कर रहे हैं और इस मामले में हमने ज़िला प्रशासन को मामला दर्ज करने को कहा है.''

प्रवीण तोड़गिया ने अपने बयान से पलटते हुए कुछ मीडिया संस्थानों को क़ानूनी नोटिस भेजा है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार