प्रियंका ने 'स्नूपगेट' का मामला उठाया, निशाने पर मोदी!

  • 23 अप्रैल 2014
प्रियंका गांधी, सोनिया गांधी, रॉबर्ट वाड्रा

प्रियंका गांधी ने कहा है कि जो लोग महिला सशक्तीकरण की बात करते हैं उन्हें औरतों की जासूसी नहीं करवानी चाहिए.

बुधवार को एक चुनावी सभा के दौरान सोनिया गांधी की बेटी ने कहा, "अगर आप महिला सशक्तीकरण की बात करते हैं, तो उनकी बातचीत की जासूसी न करें."

हालांकि उन्होंने किसी का नाम नहीं लिया लेकिन ऐसा समझा जाता है कि उनके उनके निशाने पर भारतीय जनता पार्टी के प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार नरेंद्र मोदी थे.

हाल में सामने आए कुछ आडियो टेप में एक व्यक्ति गुजरात के एक पुलिस अधिकारी को एक महिला पर नज़र रखने को कह रहा है. निगरानी का ये सिलसिला लंबे समय तक जारी रहा.

उन टेप में पुलिस अधिकारी को आदेश देने वाला व्यक्ति एक साहेब की बात करता है. ये आरोप लगाए जा रहे हैं कि वो साहेब नरेंद्र मोदी हैं और बार बार पुलिस अधिकारी को फ़ोन करने वाले व्यक्ति मोदी सरकार में मंत्री और मोदी के क़रीबी माने जाने वाले अमित शाह थे.

कांग्रेस पार्टी ने इस कथित जासूसी की बात पहले भी की है.

('जासूसी में सरकारी तंत्र का इस्तेमाल उद्योग बना')

'औरतों का अपना अस्तित्व'

प्रियंका गांधी ने कहा, "हमारे सशक्तीकरण की बात करने वाले कहते हैं कि हम माँ, बेटी और पत्नी हैं, मैं भी माँ, बेटी और पत्नी हूँ, लेकिन यह हमारा अस्तिव नहीं है. हम नारी हैं और यही हमारा अस्तित्व है."

समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक़ उन्होंने लोगों से पूछा, "अगर एक व्यक्ति के हाथ में सारी शक्ति केंद्रित हो जाए, तो क्या यह सही है? या शक्ति लोगों के पास होनी चाहिए."

उन्होंने कहा कि ऐसी राजनीति होनी चाहिए जो लोगों को शक्ति देती हो. उन्होंने यूपीए के कार्यकाल के दौरान शिक्षा के अधिकार और सूचना के अधिकार का जिक्र किया.

प्रियंका ने सभा के दौरान कहा कि हम आपको स्वास्थ्य और आवास का भी अधिकार देना चाहते हैं.

उन्होंने लोकसभा चुनावों का जिक्र करते हुए कहा, "यह चुनाव एकता और भारत की पहचान को सशक्त बनाने के लिए हैं. जब आप मतदान करने के लिए जाएं तो सोचें कि आप किस तरह की राजनीति चाहते हैं..लोगों को बाँटने वाली, जो सांप्रदायिकता फैलाती है या फिर ऐसी राजनीति जो सबको साथ लेकर चलती है."

(बीबीसी हिंदी का एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए यहां क्लिक करें. आप ख़बरें पढ़ने और अपनी राय देने के लिए हमारे फ़ेसबुक पन्ने पर भी आ सकते हैं और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार