चुनाव छठा चरणः कश्मीर से कन्याकुमारी तक मतदान

छत्तीसगढ़ के बिलासपुर में मतदान के बाद स्याही का निशान दिखाती एक महिला इमेज कॉपीरइट ALOK PUTUL

सोलहवीं लोकसभा चुनने के लिए हो रहे नौ चरण के मतदान का गुरुवार को छठा चरण है, इसमें 11 राज्यों और एक केंद्र शासित प्रदेश की 117 लोकसभा सीटों के लिए मतदान हो रहा है.

गुरुवार को तमिलनाडु की 39, महाराष्ट्र की 19, उत्तर प्रदेश की 12, मध्य प्रदेश की 10, बिहार और छत्तीसगढ़ की सात-सात, असम व पश्चिम बंगाल की छह-छह, राजस्थान की पांच, झारखंड की चार तथा पुदुच्चेरी व जम्मू एवं कश्मीर की एक-एक लोकसभा सीट पर मतदान हो रहा है.

इसी चरण में मध्य प्रदेश व तमिलनाडु की एक-एक विधानसभा सीट पर भी वोटिंग होनी है.

बिहार

बिहार में लोकसभा चुनाव के तीसरे चरण में 24 अप्रैल को सात सीटों के लिए मतदान होगा. ये हैं- सुपौल, अररिया, किशनगंज, कटिहार, पूर्णिया, भागलपुर और बांका. ये सभी सामान्य सीटें है. इन सीटों में सुपौल और बांका को छोड़ बाकी पांच सीटों पर नए सांसद के चुनाव में मुसलमान मतदाताओं की भूमिका महत्त्वपूर्ण रहेगी. किशनगंज में आधे से अधिक मतदाता मुस्लिम हैं.

तीसरे चरण में सात महिलाओं सहित कुल 108 उम्मीदवार चुनाव मैदान में हैं. बांका, भागलपुर, पूर्णिया और कटिहार सीट पर पंद्रह से अधिक उम्मीदवार हैं. ऐसे में यहां एक अतिरिक्त ईवीएम मशीन का इस्तेमाल किया जाएगा.

इस चरण में जिन प्रमुख उम्मीदवारों का परिणाम गुरुवार को ईवीएम में बंद होगा, उनमें भागलपुर से भाजपा नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री शाहनवाज हुसैन, कटिहार से राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी नेता और केंद्रीय मंत्री तारिक अनवर, अररिया से राजद के तस्लीमुद्दीन, किशनगंज से कांग्रेस नेता और निवर्तमान सांसद असरारुल हक, सुपौल से कांग्रेस नेत्री और पप्पू यादव की पत्नी रंजीता रंजन, बांका से राजद नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री जयप्रकाश नारायण यादव और बांका से ही भाजपा नेत्री और दिवंगत पूर्व केंद्रीय मंत्री दिग्विजय सिंह की पत्नी पुतुल कुमारी शामिल हैं.

साथ ही 24 अप्रैल को कोचाधामन और बायसी विधानसभा क्षेत्रों के लिए होने वाले उपचुनाव के लिए भी वोट डाले जाएंगे. इन दो सीटों पर कुल 10 उम्मीदवार चुनाव मैदान में हैं. इन दोनों क्षेत्रों के विधायक अपने पुराने दल और विधायक पद से इस्तीफा देते हुए लोकसभा चुनाव में कूदे थे.

झारखंड

झारखंड के चार संसदीय क्षेत्रों के लिए 24 अप्रैल को मतदान होगा. धनबाद, दुमका, राजमहल और गोड्डा संसदीय क्षेत्रों के लिए लिए सुबह सात से दिन के चार बजे तक वोट डाले जाएंगे. दुमका के चुनाव में झारखंड के पूर्व मुख्यमंत्री शिबू सोरेन और बाबूलाल मरांडी के भाग्य का फैसला होना है. इन दोनों का मुकाबला भाजपा के सुनील सोरेन से है.

राज्य के निर्वाचन पदाधिकारी पीके जाजोरिया के मुताबिक इन चारों संसदीय क्षेत्रों के लिए 7,489 मतदान केंद्र बनाए गए हैं, जहां 61 लाख, 7 हजार दस वोटर कुल 72 उम्मीदवारों के भाग्य का फैसला करेंगे. निष्पक्ष और शांतिपूर्ण चुनावों के 1,514 माइक्रो ऑब्जर्वर की प्रतिनियुक्ति की गई है.

दुमका और राजमहल आदिवासियों के लिए सुरक्षित सीट हैं. इन दोनों सीटों के अलावा धनबाद संसदीय क्षेत्र के कई हिस्से नक्सल प्रभावित भी हैं. लिहाजा इन क्षेत्रों में सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए गए हैं.

सुदूर इलाकों में हेलिकॉप्टर से मतदान कर्मचारियों को भेजा गया है. सुरक्षा में 38,000 जवानों को लगाया गया है. इन चारों संसदीय क्षेत्रों के लिए डाले जा रहे वोट के साथ ही झारखंड की सभी 14 सीटों पर मतदान संपन्न हो जाएगा.

छत्तीसगढ़

छत्तीसगढ़ में लोकसभा चुनाव के तीसरे और अंतिम चरण में सात संसदीय क्षेत्रों रायपुर, बिलासपुर, दुर्ग, सरगुजा, रायगढ़, कोरबा और जांजगीर-चांपा में मतदान होगा. राज्य के एक करोड़ 18 लाख मतदाता इन सीटों पर खड़े हुए 153 प्रत्याशियों की किस्मत का फैसला करेंगे.

इमेज कॉपीरइट BBC Alok Putul

राज्य में लोकसभा की 11 सीटें हैं, जिनमें से केवल एक सीट कोरबा पर कांग्रेस का कब्जा है, शेष सभी 10 सीटों पर भाजपा काबिज है. 11 सीटों में से नक्सल प्रभावित चार लोकसभा क्षेत्रों में 10 और 17 अप्रैल को मतदान हो चुका है.

केंद्रीय कृषि राज्य मंत्री चरणदास महंत कोरबा से चुनाव मैदान में हैं तो भाजपा से कांग्रेस में आई करुणा शुक्ला बिलासपुर से चुनाव लड़ रही हैं. करुणा शुक्ला पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की भतीजी हैं. भाजपा के महिला मोर्चा की राष्ट्रीय अध्यक्ष व सांसद सरोज पांडेय दुर्ग से चुनाव मैदान में हैं.

लोगों की नज़रें रायपुर सीट पर भी लगी हुई हैं, जहां भाजपा के सांसद रमेश बैस 1996 से लगातार निर्वाचित होते रहे हैं. उनके खिलाफ कांग्रेस ने इस बार विधायक सत्यनारायण शर्मा को मैदान में उतारा है.

तमिलनाडु

इमेज कॉपीरइट Daniel Stephen

तमिलनाडु में मुकाबला अन्ना द्रमुक, द्रमुक और बीजेपी गठबंधन के बीच है. बीजेपी ने राज्य में छह राजनीतिक पार्टियों से गठबंधन किया है. कांग्रेस तमिलनाडु में अकेले चुनाव लड़ रही है.

राज्य की 39 लोकसभा सीटों के लिए कुल 845 उम्मीदवार चुनाव मैदान में हैं, जिनमें 55 महिलाएं और एक किन्नर है. स्वतंत्र और निष्पक्ष मतदान संपन्न के लिए कड़ी सुरक्षा व्यवस्था की गई है जिसमें तकरीबन सवा लाख जवानों की तैनाती की गई है. राज्य पुलिस और केन्द्रीय अर्ध सैन्य बलों को सुरक्षा व्यवस्था में लगाया गया है.

राज्य में कुल पांच करोड़ 50 लाख 42 हजार 876 मतदाता हैं जिनमें दो करोड़ 75 लाख 21 हजार 162 महिलाएं हैं. इसके अलावा 3,341 मतदाता किन्नर हैं. चुनाव आयोग ने मतदान का प्रतिशत बढ़ाने के लिए सघन अभियान चलाया है और अभिनेता कमल हसन और शतरंज के विश्व चैंम्पियन विश्वनाथन की मदद ली है. लोकसभा चुनावों के साथ ही अलानडुर विधानसभा क्षेत्र में भी उपचुनाव कराया जा रहा है.

मध्य प्रदेश

इमेज कॉपीरइट BBC Alok Putul

मध्य प्रदेश के 10 संसदीय क्षेत्रों- विदिशा, देवास, उज्जैन, मंदसौर, रतलाम, धार, इंदौर, खरगोन, खंडवा और बैतूल में मतदान होना है. यहां एक करोड़ 69 लाख 81 हजार मतदाता अपने मताधिकार का प्रयोग करेंगे जिनमें से एक तिहाई यानी कि 58 लाख से ज़्यादा मतदाता युवा हैं.

इस चरण के तहत जिन 10 संसदीय क्षेत्रों में मतदान होना है, उनमें मतदाताओं की संख्या के लिहाज से सबसे बड़ा संसदीय क्षेत्र इंदौर है, जहां मतदाताओं की संख्या 21 लाख से अधिक है, वहीं उज्जैन में सबसे कम करीब 15 लाख मतदाता हैं. इंदौर से भाजपा की उम्मीदवार सुमित्रा महाजन 1989 से अब तक कोई लोकसभा चुनाव नहीं हारी हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार