नीतीश या मोदी: विकास मॉडल किसका बेहतर?

नरेंद्र मोदी, नीतीश कुमार इमेज कॉपीरइट BBC World Service
Image caption गुजरात के मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी और बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार

आज ये दोनों नेता अपनी-अपनी पार्टी की पहचान हैं. दोनों मुख्यमंत्री हैं. दोनों के राज्य में हुए विकास की मीडिया में चर्चा रही है. दोनों राज्यों में इस विकास को एक मॉडल के रूप में देखा गया है.

नरेंद्र मोदी आज प्रधानमंत्री पद के घोषित उम्मीदवार हैं और देश में उनके राज्य और वहाँ के विकास की चर्चा व्यापक तौर पर होती है.

कैंपस हैंगआउट इस लिंक पर देख सकेंगे

उधर नीतीश कुमार को ग़ैर भाजपा-ग़ैर कांग्रेस गठबंधन के भावी नेता के रूप में भी देखा जाता है. उनके कार्यकाल में बिहार में जिस तरह से सड़कें बनीं या विकास को लेकर महादलित वर्ग की चर्चा हुई, वो उनके विकास के मॉडल के तौर पर देखा गया.

राहें जुदा

भाजपा के पुराने गठबंधन सहयोगी रहे जनता दल यूनाइटेड ने नरेंद्र मोदी के भाजपा में बढ़ते प्रभाव के बाद राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन से अलग होने का फ़ैसला किया था.

इस चुनाव के दौरान इन दोनों नेताओं ने एक दूसरे पर अपने तरकश से कई तीर छोड़े हैं.

इमेज कॉपीरइट PTI

नीतीश कुमार ने नरेंद्र मोदी के विकास मॉडल की आलोचना की है और कहा है कि गुजरात में पिछड़ों के विकास पर ध्यान नहीं दिया गया.

उधर मोदी ने भी बिहार की स्थिति को चिंताजनक कहते हुए विकास का भरोसा दिलाया है.

ऐसे में बिहार के युवा ख़ुद किस राह को अपने राज्य के लिए बेहतर मानते हैं? गुजरात मॉडल या बिहार मॉडल?

कैंपस हैंगआउट

बीबीसी कैंपस हैंगआउट में इस बार चर्चा का यही विषय है. शुक्रवार दो मई को दोपहर एक बजे से दो बजे के बीच ये हैंगआउट आप बीबीसी हिंदी के यूट्यूब चैनल पर लाइव देख सकेंगे.

ये कार्यक्रम मुज़फ़्फ़रपुर के बाबा साहेब भीमराव अंबेडकर बिहार विश्वविद्यालय में आयोजित हो रहा है.

इस कार्यक्रम का लाइव विवरण बीबीसी हिंदी के फ़ेसबुक पन्ने पर भी उपलब्ध रहेगा. वहाँ पर और ट्विटर पर भी आप #CampusHangout हैशटैग के साथ अपनी बात रख सकते हैं.

बीबीसी कैंपस हैंगआउट के ज़रिए इस चुनाव में हमने आप तक युवाओं की बात देश के अलग-अलग हिस्सों से अलग-अलग विषयों पर पहुँचाने की कोशिश की है.

उसी कड़ी में ये कार्यक्रम बिहार के मुज़फ़्फ़रपुर ज़िले में आयोजित हो रहा है.

(बीबीसी हिंदी का एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें. आप हमसे फ़ेसबुक या ट्विटर पर भी जुड़ सकते हैं.)

संबंधित समाचार