मोदी को इजाज़त न देने के ख़िलाफ़ भाजपा का धरना

दिल्ली में भाजपा कार्यकर्ताओं का प्रदर्शन

भाजपा के प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार नरेंद्र मोदी को बनारस में बेनियाबाग़ में जनसभा करने की अनुमति नहीं मिलने के ख़िलाफ़ पार्टी कार्यकर्ताओं ने गुरुवार को दिल्ली और बनारस में धरना दिया.

मोदी ने चुनाव आयोग पर पक्षपात करने का आरोप लगाया है. मोदी ने उत्तर प्रदेश के आज़मगढ़ में एक जनसभा को संबोधित करते हुए कहा, "मैं बहुत ज़िम्मेदारी के साथ चुनाव आयोग पर पक्षपात का आरोप लगा रहा हूं. चुनाव आयोग निष्पक्ष नहीं है."

बीबीसी संवाददाता सलमान रावी के मुताबिक़ दिल्ली में भाजपा के नेता वेंकैया नायडू, मुख्तार अब्बास नकवी और मीनाक्षी लेखी के नेतृत्व में पार्टी कार्यकर्ता चुनाव आयोग के दफ़्तर तक जुलूस के रूप में पहुँचे मगर उन्हें संसद मार्ग पर ही रोक दिया गया.

धरना

दिल्ली पुलिस ने प्रदर्शन को देखते हुए पूरे इलाक़े में धारा 144 लागू कर दी है और सड़क पर बैरीकेड लगा दिए गए हैं.

बनारस में मौजूद बीबीसी संवाददाता मोहन लाल शर्मा के मुताबिक़ भाजपा के धरने के कारण शहर की अधिकांश सड़कें जाम हैं. ख़ासकर काशी हिंदू विश्वविद्यालय की ओर जाने वाली सड़कें इससे सर्वाधिक प्रभावित हैं.

पूरे बनारस में पुलिस की गाड़ियां गश्त कर रही हैं. सैकड़ों की संख्या में भाजपा के कार्यकर्ता मोदी के समर्थन में नारे लगाते हुए जुलूस की शक्ल में निकले और उन्होंने बीएचयू के गेट पर मदन मोहन मालवीय की मूर्ति के नीचे धरना दिया. मोदी समर्थकों का आरोप है कि अखिलेश यादव की सरकार और चुनाव आयोग ने मिलकर मोदी की रैली नहीं होने दी और इसके विरोध में वे सड़कों पर उतरे हैं.

छात्रों को परेशानी

भाजपा के वरिष्ठ नेता अरुण जेटली और पार्टी के उत्तर प्रदेश के प्रभारी अमित शाह ने कार्यकर्ताओं को संबोधित भी किया.

इस बीच काशी हिंदू विश्विद्यालय में परीक्षाओं का दौर जारी है. गुरुवार को भी तमाम छात्र परीक्षा देने पहुँचे लेकिन उनके सामने यह है कि परीक्षा देने के बाद घर कैसे पहुँचें.

वनस्पति विज्ञान की एक छात्रा का कहना था, "मैंने अपने पापा को मुझे लेने के लिए बुलाया है लेकिन समस्या यह है कि वो यहां पहुँचेंगे कैसे."

बीएचयू से इतर बाक़ी बनारस की सड़कों पर आम आदमी पार्टी के कार्यकर्ता झंडों, पोस्टरों और पार्टी के चुनाव चिह्न झाड़ू के साथ चौराहों पर खड़े हैं. वे अरविंद केजरीवाल के समर्थन में नारे लगा रहे हैं. केजरीवाल बनारस से मोदी के ख़िलाफ़ चुनाव लड़ रहे हैं.

मोदी को बेनियाबाग़ मैदान में जनसभा की अनुमति नहीं मिली है लेकिन उन्हें दशाश्वमेध घाट पर गंगा आरती की अनुमति दे दी गई है.

मोदी ने ट्वीट कर के कहा है कि वे गंगा आरती नहीं कर पाएंगे. मोदी ने कहा, "मैं आरती न कर पाने के लिए गंगा माँ से माफ़ी माँगता हूँ. काश ये लोग समझ पाते कि माँ का प्यार राजनीति से ऊपर होता है."

मोदी को चुनौती

इस बीच आम आदमी पार्टी के संयोजक और बनारस से उम्मीदवार अरविंद केजरीवाल ने कई सिलसिलेवार ट्वीट कर मोदी पर सवाल उठाए हैं. केजरीवाल ने ट्वीट किए, "मैं श्री मोदी को सार्वजनिक मंच पर खुली चर्चा के लिए आमंत्रित करता हूँ. काशी को लोगों को हम दोनों से सीधे सवाल पूछने दो. वक़्त और जगह मोदी की पसंद की होगी."

"मोदीजी को गंगा आरती करने की अनुमति मिल गई है. लेकिन वो आरती करने के बजाए इससे राजनीतिक फ़ायदा उठाने की कोशिश कर रहे हैं. यह दुखद है."

"बीजेपी के शीर्ष नेता काशी पहुँच गए हैं. यह उनका घबराहट दर्शाता है. क्या वे मोदी जी को हार से बचा पाएंगे?"

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार