आख़िरी दौर का मतदान, सबकी नज़रें बनारस पर

मतदान (फाइल फोटो) इमेज कॉपीरइट AFP

लोकसभा चुनावों के अंतिम चरण में बिहार की छह, उत्तर प्रदेश की 18 और पश्चिम बंगाल की 17 सीटों पर सोमवार को मतदान हो रहा है.

नौ चरणों में पूरा किए जाने वाले इस चुनाव के आखिरी दौर में लोकसभा की 41 सीटों के लिए वोटिंग हो रही है. लेकिन सबकी दिलचस्पी वाराणसी सीट पर लगी हुई है.

(नरेंद्र मोदी की ऊर्जा का राज़)

सोमवार को राजनीतिक रूप से महत्वपूर्ण राज्य उत्तर प्रदेश की जिन 18 सीटों पर मतदान होना है उनमें वाराणसी से भारतीय जनता पार्टी के प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार नरेंद्र मोदी चुनाव लड़ रहे हैं.

इस सीट पर मोदी का मुकाबला आम आदमी पार्टी के अरविंद केजरीवाल और कांग्रेस के अजय राय से है.

सोमवार को ही समाजवादी पार्टी के नेता मुलायम सिंह यादव की किस्मत का फैसला भी आजमगढ़ के मतदाता कर देंगे.

पूर्वी उत्तर प्रदेश के तीन करोड़ से भी ज्यादा मतदाता राज्य के 19,881 मतदान केंद्रों पर उम्मीदवारों पर अपनी राय जाहिर करेंगे.

पूर्वी उत्तर प्रदेश

इमेज कॉपीरइट AP

2009 के लोकसभा चुनावों में पूर्वी उत्तर प्रदेश की 18 सीटों में से सपा के पास छह सीटें थीं जबकि बहुजन समाज पार्टी का कब्जा पाँच सीटों पर था. पंद्रहवीं लोकसभा में भाजपा ने इन इलाकों से चार सांसद चुन कर भेजे थे जबकि कांग्रेस ने तीन. भाजपा इनमें से 12 सीटों पर करीबी मुकाबले में हारी थी.

(केजरीवाल, राहुल और अखिलेश)

सपा सुप्रीमो आजमगढ़ के अलावा मैनपुरी से भी चुनाव लड़ रहे हैं. आजमगढ़ में मुलायम सिंह यादव का मुकाबला अपने पुराने राजनीतिक साथी और भाजपा के मौजूदा सांसद रमाकांत यादव से है. रमाकांत यहां से चार बार सांसद रह चुके हैं.

आज़मगढ़ में मौजूद वरिष्ठ पत्रकार अतुल चंद्रा कहते हैं, "यद्यपि वे और उनके भाई उमाकांत कुख्यात हिस्ट्री-शीटर हैं, लेकिन भाजपा को उन्हें टिकट देने में कोई झिझक नहीं हुई. इसी सीट से बसपा की तरफ से विधायक शाह आलम 'गुड्डू' जमाली मैदान में हैं. आजमगढ़ के कई लोग उन्हें हल्का प्रत्याशी मानने से इंकार करते हैं और यहां त्रिकोणीय लड़ाई की बात करते हैं."

गृह राज्य मंत्री आरपीएन सिंह कुशीनगर से और कांग्रेस से भाजपा में आए जगदम्बिका पाल डुमरियागंज से किस्मत आजमा रहे हैं.

सीपीआई के अतुल कुमार अंजान घोसी से, भाजपा नेता कलराज मिश्र देवरिया से और योगी आदित्यनाथ गोरखपुर से, भोजपुरी फिल्मों के अभिनेता रवि किशन जौनपुर से और पूर्व प्रधानमंत्री चंद्र शेखर के बेटे नीरज शेखर बलिया से चुनाव लड़ रहे हैं.

बिहार

इमेज कॉपीरइट Reuters

बाहुबली धनंजय सिंह जौनपुर में रवि किशन के मुकाबले में है. धनंजय सिंह इस सीट के मौजूदा सांसद हैं लेकिन इस बार वे बसपा की बजाय निर्दलीय मैदान में उतरे हैं. भाजपा की सहयोगी पार्टी अपना दल की अनुप्रिया पटेल मिर्जापुर से चुनाव लड़ रही हैं.

(निशाने पर चुनाव आयोग)

पश्चिम बंगाल की जिन 17 सीटों पर मतदान जारी है, उनमें फिलहाल 14 सीटें तृणमूल कांग्रेस के खाते में जबकि कांग्रेस और सीपीआई के पास एक एक सीट है. एक अन्य सीट पर पिछली बार स्वतंत्र प्रत्याशी जीते थे. पश्चिम बंगाल की बरहामपुर सीट से केंद्रीय मंत्री अधीर रंजन चौधरी की किस्मत का फैसला भी आखिरी चरण में ही हो जाएगा.

पड़ोस के बिहार से स्थानीय पत्रकार मनीष शांडिल्य कहते हैं कि राज्य में लोकसभा चुनाव के अंतिम चरण में आज छह संसदीय क्षेत्रों में मतदान हो रहा है. आज राज्य के वाल्मीकिनगर, पश्चिम चंपारण, पूर्वी चंपारण, वैशाली, गोपालगंज (सुरक्षित) और सीवान संसदीय क्षेत्रों में मतदाता अपना प्रतिनिधि चुनने के लिए मतदान कर रहे हैं.

बड़े नाम

इस चरण में नब्बे प्रत्याशियों के भाग्य का फैसला होगा है जिनमें पांच महिला प्रत्याशी शामिल हैं. प्रमुख उम्मीदवारों में वैशाली सीट पर फिर से मैदान में उतरे पूर्व केंद्रीय मंत्री और राजद प्रत्याशी रघुवंश प्रसाद सिंह, पश्चिम चंपारण से फिल्म निर्माता-निर्देशक और जदयू प्रत्याशी प्रकाश झा और सीवान से चर्चित शहाबुद्दीन की पत्नी और राष्ट्रीय जनता दल की प्रत्याशी हेना शहाब शामिल हैं.

(मुलायम का सबसे बड़ा 'जुआ'?)

आज की छह सीटों में से जदयू सभी छह, भाजपा पांच, राजद चार और कांग्रेस दो सीटों पर मैदान में है. इनमें से दो-दो सीटें वर्तमान में भाजपा और जदयू एवं एक-एक सीट राजद और निर्दलीय के खाते में हैं.

2009 में सीवान से निर्दलीय के रुप में चुनाव जीतने वाले ओम प्रकाश यादव इस बार भाजपा के टिकट पर चुनाव मैदान में हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार