दिल्ली का एक गांव बना फ़ैशन का गढ़

शाहपुर जाट इमेज कॉपीरइट Sumiran Preet

एक तरफ़ पुराने घर जिनके बाहर पड़ी खाट पर बैठकर गप्पें लड़ाते लोग और सड़क के दूसरी तरफ़ डिज़ाइनर बुटीक़.

इनके मालिक हैं ब्रिटेन, फ़्रांस और ग्रीस जैसे देशों से आए विदेशी.

ये नज़ारा है दक्षिणी दिल्ली के हौज़ ख़ास, ग्रीन पार्क और आईआईटी जैसे पॉश इलाकों से सटे शाहपुर जट गांव का.

(लंदन में छाए देसी डिज़ाइनर)

इन बुटीक़्स के अंदर डिज़ाइनर कपड़ों के अलावा आप पाएंगे कैफ़े, जहां आप गर्मागर्म कैप्पेचीनो और पास्ता का नाश्ता कर अपनी भूख भी मिटा सकते हैं.

ये विदेशी डिज़ाइनर अब दिल्ली को ही अपना घर मानने लगे हैं.

( सुनिए ये ख़ास रिपोर्ट)

ग्रीस मूल की एलेका करानो यहां कुछ साल पहले न्यूयॉर्क से आईं और यहीं की होकर रह गईं.

'फ़ैशन हब'

इमेज कॉपीरइट Sumiran Preet

एलेका ने बीबीसी को बताया, "दिल्ली डिज़ाइनर्स के लिए एक फ़ैशन हब बनता जा रहा है और दिल्ली के अंदर शाहपुर जट से बेहतर कुछ नहीं है. यहां पर एक जगह सारी काम की चीज़ें उपलब्ध हैं."

वो बताती हैं, "सिलाई का सामान भी और स्थानीय कारीगर भी. यहां के लोग हमारी सिलाई बुनाई में मदद करते हैं. हमारी बुटीक़ और वर्कशॉप दोनों यहीं पर है और इस जगह का किराया भी बाकी जगहों से कम है. यह मेरे जैसे सभी डिज़ाइनर्स की पसंदीदा जगह है."

(बॉलीवुड का टेलर)

इमेज कॉपीरइट Sumiran Preet
Image caption न्यूयॉर्क से आई एलेका करानो का शाहपुर जाट में बुटीक़ है

एलेका जब न्यूयॉर्क छोड़ना चाहती थीं तो उनके पास अपना कारोबार शुरू करने के लिए दो विकल्प थे. भारत और चीन. फिर भला उन्होंने भारत को क्यों चुना ?

इसके जवाब में एलेका कहती हैं, "भारत के लोगों में फ़ैशन की समझ ज़्यादा है. मैं अपने फ़ैसले से बहुत ख़ुश हूं. न्यूयॉर्क फ़ैशन के लिहाज़ से लगभग मर चुका है. अब वहां लोगों में कला की कोई कद्र नहीं है. लोग सिर्फ़ पैसे कमाना चाहते हैं."

स्थानीय लोग भी इन डिज़ाइनर्स के यहां आने से ख़ुश हैं क्योंकि एक हद तक इससे यहां के लोगों को रोज़गार मिलता है.

ये डिज़ाइनर यहां के लोगों की पुरानी हवेली किराए पर लेते हैं और अपना काम शुरू कर देते हैं. एलेका का बुटीक़ भी जिस हवेली में है वो सौ साल पुरानी है.

वो कहती हैं, "जब मैंने इस जगह को देखा तो मुझे इस जगह से प्यार हो गया. मैंने हवेली की दीवारों में, इसके पुराने ढांचे में कोई ख़ास बदलाव नहीं किया, ताकि इमारत का पुराना टच कायम रहे. यहां बस अब कुछ ही इमारतें ऐसी बची हैं."

बदल गया माहौल

इमेज कॉपीरइट Sumiran Preet

पिछले सालों में यहां बहुत कुछ बदला है. यहां अब डिज़ाइनर्स के आने से लोगों का आना-जाना ज़्यादा होने लगा है और यहां के किराए भी तीन गुना तक बढ़ गए हैं. इससे स्थानीय लोगों की आर्थिक स्थिति भी बेहतर हो रही है. गाँव वालों को मुनाफ़ा होता है.

पिछले आठ साल से भारत में रह रहीं एलेका के डिज़ाइन किए कपड़ों पर किए गए काम में भी भारत का प्रभाव साफ़ देखा जा सकता है.

(चीन: नई नस्ल का फ़ैशन)

एलेका के मुताबिक़, "मैं पश्चिमी शैली के कपड़े बनाती हूं, लेकिन भारत के उजले रंग और डिज़ाइन के प्रभाव को आप साफ देख सकते हैं. मैं कपड़े 30 बरस से ऊपर की महिलाओं को ध्यान में रखकर बनाती हूं."

इमेज कॉपीरइट Sumiran Preet

इन बुटीक़्स में ज़्यादातर ख़रीदार नौजवान भारतीय और दूतावास कर्मचारी और अधिकारी होते हैं.

(फ़ैशन की रौनक)

जब आप यहां की गलियों से होकर गुज़रेंगे तो भारतीय और पश्चिमी सभ्यता के मिलन को साफ़ महसूस कर सकते हैं.

जहां एक तरफ भारत के रंग इनके कपड़ों में झलकते हैं वहीं बाहर से आए लोगों के रहन-सहन का असर भी यहां दिखता है.

'कॉन्सेप्ट कैफ़े'

इमेज कॉपीरइट Sumiran Preet

फ्रांस से आई कैथरीन बारबिएखा ने यहां पर अपना कैफ़े खोला है जिसे नाम दिया है 'कैफ़े ले परीनियां'. वो 14 साल पहले भारत आई थीं. हालांकि ये कैफ़े उन्होंने तीन साल पहले ही खोला.

इस कैफ़े के एक कोने में आप विंटेज कपड़े और घर की सजावट का सामान देख सकते हैं तो दूसरी तरफ़ आप आराम से बैठ कर खा-पी सकते हैं. इनके कैफ़े में फ्रेंच खाना मिलता है.

(क्या साड़ी कर रही है वापसी)

इस तरह के कैफ़े जहां डिज़ाइनर कपड़े और खाने-पीने की चीज़ें एक साथ मिलती हैं, उन्हें कॉन्सेप्ट कैफ़े भी कहा जाता है.

कैथरीन के मुताबिक़, "हमारे यहां विंटेज कपड़े और सामान मिलता है. 40, 50 और 60 के दशक के फ़ैशन वाले कपड़े और कई ऐतिहासिक सामान भी मिलते हैं. यहां गांव होने से ज़्यादा भीड़-भाड़ नहीं होती और शांत माहौल होता है."

ख़तरा

इमेज कॉपीरइट Sumiran Preet

लेकिन इन डिज़ाइनर्स को आधुनिकीकरण से एक ख़तरा भी महसूस हो रहा है. वो ख़तरा है रोज़ाना नई इमारतों और बिल्डरों के फैलता जाल.

(ये शोख़ियां ये बांकपन)

कैथरीन के मुताबिक़, "डर लगता है कि कहीं इस जगह की महत्ता ही ना ख़त्म हो जाए. हमने ये हवेली किराए पर ली है, लेकिन हो सकता है कि हवेलियों के मालिक अब इसे बिल्डरों को बेचना चाहें या नए ज़माने की इमारत बनाना चाहें. इसलिए मुझे लगता है कि ये सब बस अब थोड़े समय की बात है. शायद यहां पुराने जैसा कुछ ना बचे."

लेकिन इन सब चिंताओं को फ़िलहाल दरकिनार करते हुए कैथरीन अपने बुटीक़ में आए नए ग्राहक को कपड़े दिखाने में व्यस्त हो जाती हैं.

(बीबीसी हिंदी के एंड्रॉइड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप बीबीसी हिंदी के फ़ेसबुक और ट्विटर से भी जुड़ सकते हैं.)

संबंधित समाचार