सोशल मीडिया में मोदी, कांग्रेस और अर्णब

  • 16 मई 2014
Image copyright ankur jain

चुनाव परिणामों के ताज़ा रुझानों से लगभग साफ है कि बीजेपी के नेतृत्व वाली एनडीए को लोगों ने कांग्रेस-यूपीए के मुकाबले अधिक पसंद किया है.

ज़ाहिर है सोशल मीडिया पर बीजेपी समर्थक बेहद खुश हैं और लगातार इससे जुड़े अपडेट्स जारी हैं.

वैसे ट्विटर के टॉप ट्रेंड्स में हैं Results2014 और IndiaDecides2014 लेकिन इसके अलावा लोग मीडिया के भी मज़े ले रहे हैं जो ट्रेंड कर रहा है.

ट्विटर का ऐसा ही एक ट्रेंड है May16withArnab. इसमें टाइम्स नाऊ के एंकर अर्नब गोस्वामी से जुड़े ट्विट्स हैं जो अपने नेशन वांट्स टू नो जैसे सवालों के लिए हमेशा सोशल मीडिया में छाए रहते हैं.

वैसे जानी मानी व्यंग्य साइट फेकिंग न्यूज़ ने भी एक स्टोरी की है जिसे काफी लोग फेसबुक पर शेयर कर रहे हैं. इसमें कहा गया है कि अर्णब गोस्वामी इतने व्यग्र हो गए हैं कि वो ईवीएम के स्ट्रांग रुम में घुसकर खुद ही वोटों की गणना करने लगे हैं.

इसके अलावा बागपत से अजित सिंह की हार और तिरुअनंतपुरम से पीछे चल रहे शशि थरुर पर काफी लोग टिप्पणी कर रहे हैं.

हालांकि अजित सिंह की हार की अभी औपचारिक घोषणा नहीं हुई है.

फेसबुक पर इसी तरह मुलायम सिंह के आजमगढ से पीछे रहने, राहुल गांधी के अमेठी से पीछे रहने का काफी मज़ाक उड़ाया जा रहा है.

आम आदमी पार्टी के ख़राब प्रदर्शन के साथ साथ मोदी से डर पर भी कई लोगों ने पोस्टें लिखी हैं.

मसलन गिरिन्द्रनाथ झा लिखते हैं- गुरु लगभग डेढ घंटे से राहुल गांधी पीछे चल रहे हैं.

पुष्य मित्र लिखते हैं – ‘’मैं आज भी यही मानता हूं कि मोदी की इस जीत में सबसे बड़ा योगदान मोदी विरोधियों का है, जिन्हें विदेशी मीडिया ने इंटेलेक्चुअल इलीट का नाम दिया है... उन्हें एक राज्य के मुख्यमंत्री को इतनी बड़ी छवि दी कि जनता को लगने लगा जरूर इस बंदे में दम है. अगर मोदी विरोधी नहीं होते तो भाजपा कभी 2004 और 2009 के आंकड़ों से आगे नहीं जा पाती. आडवाणी सोच रहे होंगे काश भारत के बुद्धिजीवियों ने उनसे भी इतनी नफरत की होती.’’

फिलहाल अभी पूरे परिणाम आए नहीं हैं. दोपहर तक सारे परिणामों के आने की संभावना है और उम्मीद है तब तक लोगों की टिप्पणियां और भी रोचक होंगी और नए ट्रेंड्स का पता चलेगा.

आप अगर ख़बरों पर नज़र रखना चाहें और जानना चाहते हों कि सोशल मीडिया पर क्या हो रहा है तो बीबीसी हिंदी के लाइवटेक्सट पन्ने पर ज़रुर आएं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)