पटना धमाके से जुड़े चार संदिग्ध गिरफ्तार

पटना धमाका मामले में रांची में एनआईए टीम

पटना और बोधगया में हुए बम धमाकों के सिलसिले में राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) ने झारखंड से चार संदिग्ध लोगों को गिरफ्तार किया है. एनआईए के डीजी शरद कुमार ने दिल्ली में गिरफ्तारी की पुष्टि की है.

झारखंड से गिरफ्तार किए गए चार संदिग्धों के नाम हैं- हैदर अली, नुमान अंसारी, मुजीबुल्लाह और तौफीक अंसारी.

इनमें से हैदर अली की गिरफ्तारी के लिए दस लाख रुपये का इनाम भी रखा गया था. इनके अलावा अन्य तीनों संदिग्धों पर एनआईए ने पांच लाख रुपये इनाम की घोषणा की थी.

नुमान अंसारी और तौफीक अंसारी को झारखंड के पलामू से गिरफ्तार किया गया है. पलामू के एसपी वाइएस रमेश ने बताया है कि तौफीक अंसारी और नुमान अंसारी को पलामू शहर के बारालोटा मुहल्ले स्थित एक लॉज से गिरफ्तार किया गया है.

रांची के सीठियो गांव के रहने वाले इन दोनों ने लॉज में किराए पर कमरे ले रखे थे.

रांची

बम धमाकों के सिलसिले में रांची से हैदर अली और मुजीबुल्लाह अंसारी को गिरफ्तार किया गया है.

रांची के आरक्षी अधीक्षक, नगर अनूप बिरथरे ने बताया है कि दोनों संदिग्धों की गिरफ्तारी रांची के लोअरबाज़ार थाना क्षेत्र के खादगढ़ा इलाके से हुई है.

बिरथरे के मुताबिक एनआईए ने दोनों आरोपियों को ट्रांज़िट पर ले जाने के लिए रांची में ही दंडाधिकारी के समक्ष पेश भी किया है. एनआईए दोनों को अपने साथ पटना ले जाएगी.

मुजीबुल्लाह अंसारी रांची के अरमांझी थाना क्षेत्र के चकला गांव के रहने वाले हैं, जबकि हैदर अली बिहार के औरंगाबाद के रहने वाले हैं.

पिछले साल चार नवंबर को पुलिस ने रांची में मुजीबुल्लाह अंसारी के एक ठिकाने इरम लॉज में छापा मारा था. इस छापेमारी में नौ ज़िंदा बम समेत भारी मात्रा में विस्फोटक सामग्री बरामद हुई थी.

निशानदेही

इससे पहले मंगलवार को एनएआई की टीम तहसीन अख्तर उर्फ मोनू को लेकर छानबीन के लिए रांची आई थी. शाम को ही एनआईए के अधिकारी तहसीन को लेकर सीठियो गांव स्थित इम्तियाज के घर पर ले गए थे.

27 अक्तूबर को पटना में नरेंद्र मोदी की रैली से ठीक पहले हुए धमाकों में मौके से ही इम्तियाज को गिरफ्तार किया गया था.

हैदर अली की गिरफ्तारी के लिए दस लाख रुपये का इनाम भी रखा गया था. इनके अलावा अन्य तीनों संदिग्धों की गिरफ्तारी के लिए किसी प्रकार की जानकारी देने के लिए एनआईए ने पांच लाख रुपये इनाम की घोषणा की थी.

ज़िंदा बम

पटना धमाके से जुड़ी कार्रवाई के तहत एनआईए ने पिछले साल तीस अक्तूबर को रांची से ही ओज़ैर अहमद को गिरफ्तार किया था.

इस कांड में छानबीन के लिए एनएआई की टीम पटना से इम्तियाज को लेकर उसके गांव सीठियो भी आ चुकी है.

27 अक्तूबर को पटना में नरेंद्र मोदी की रैली से ठीक पहले बम धमाके में छह लोगों की मौत हो गई थी और दर्जनों घायल हो गए थे. सात जुलाई को बोध गया में बम धमाके में कई लोग घायल हुए थे.

(बीबीसी हिंदी का एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार