दादरी में भाजपा नेता की हत्या के बाद तनाव

  • 8 जून 2014
दादरी में तनाव Image copyright AP
Image caption पुलिस ने इलाके में धारा 144 लगा दी है

पश्चिमी उत्तर प्रदेश के दादरी इलाक़े में एक भाजपा नेता की हत्या के बाद स्थिति तनावपूर्ण बनी हुई है.

शनिवार शाम दादरी की नगरपालिका परिषद की चेयरमैन गीता पंडित के पति विजय पंडित की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी.

विजय पंडित को गाज़ियाबाद के एक अस्पताल में भर्ती कराया गया था जहाँ इलाज के दौरान उनकी मौत हो गई. पुलिस के मुताबिक उन्हें छह गोलियां मारी गई थीं.

मौत की ख़बर के बाद दादरी में उनके समर्थक बेक़ाबू हो गए. उन्होंने कई जगह तोड़फोड़ और आगजनी की. इस दौरान कई सरकारी और निजी वाहनों को भी आग लगा दी गई.

विजय पंडित की पत्नी ने इस हत्या के लिए समाजवादी पार्टी के स्थानीय नेता नरेंद्र भाटी को ज़िम्मेदार बताया है.

इस घटना के बाद विपक्षी दलों ने एक बार फिर अखिलेश यादव सरकार को कानून व्यवस्था के मुद्दे पर घेरा है.

लापरवाही के आरोप

पुलिस अधीक्षक ग्रामीण ब्रिजेश कुमार सिंह ने बीबीसी को बताया, "अभी इलाक़े में धारा 144 लगा दी गई है और हालात शांतिपूर्ण हैं. हत्या के शक में चार लोगों को हिरासत में लेकर पूछताछ की जा रही है."

पुलिस और ग़ुस्साई भीड़ के बीच झड़प हुई है जिसमें दो पुलिसकर्मी घायल हैं. पुलिस अधीक्षक के मुताबिक, पुलिसकर्मियों की हालत सामान्य है.

मृतक विजय पंडित के परिवार ने कुछ स्थानीय नेताओं पर हत्या का आरोप लगाया है.

उनका कहना है कि उनके परिवार को लोकसभा चुनावों के दौरान प्रचार न करने के लिए धमकियाँ मिली थीं, जिसकी रिपोर्ट भी दर्ज़ करवाई गई थी.

परिवार और समर्थकों ने पुलिस पर भी लापरवाही के आरोप लगाए हैं.

फिर निशाने पर अखिलेश सरकार

इस घटना के बाद एक फिर उत्तर प्रदेश की अखिलेश यादव सरकार पर क़ानून व्यवस्था को न संभाल पाने के आरोप लग रहे हैं.

भारतीय जनता पार्टी के नेता मुख़्तार अब्बास नकवी ने कहा, "उत्तर प्रदेश में क़ानून व्यवस्था पूरी तरह से ध्वस्त हो चुकी है."

उन्होंने कहा, "आज स्थिति यह है कि क़ानून का राज नहीं रह गया है, बल्कि गुंड़ों का राज है. ऐसे हालात में उत्तर प्रदेश सरकार कार्रवाई करने की बजाय लीपापोती में लगी है."

वहीं कांग्रेस ने भी राज्य सरकार की आलोचना की है. कांग्रेस नेता राशिद अल्वी ने कहा, "यकीनन उत्तर प्रदेश की सरकार क़ानून व्यवस्था को संभालने में नाकाम रही है."

उन्होंने कहा कि राज्य के अंदर बुरी स्थिति है और राज्य सरकार से लोगों का विश्वास उठता जा रहा है, इसलिए उसे जल्द से जल्द क़दम उठाने चाहिए.

लेकिन राज्य के प्रधान सचिव दीपक सिंघल का कहना है कि सरकार किसी तरह की कोताही नहीं बरत रही है.

उन्होंने कहा कि कई वरिष्ठ अधिकारी वहां भेजे गए हैं और स्थिति पर लगातार नज़र रखी जा रही है और सभी क़दम उठाए जा रहे हैं.

(बीबीसी हिंदी का एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें. आप ख़बरें पढ़ने और अपनी राय देने के लिए हमारे फ़ेसबुक पन्ने पर भी आ सकते हैं और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार