इराक़ में फंसे भारतीय सुरक्षित: सरकार

इराक़ में फंसी नर्स सोनिया इमेज कॉपीरइट Sonia Jomon
Image caption (इराक़ में फंसी नर्स सोनिया (तस्वीर में बांए की फ़ाइल फ़ोटो)

भारत के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता सैयद अक़बरुद्दीन ने कहा है कि इराक़ में फंसीं सभी भारतीय नर्सें सुरक्षित हैं और मंत्रालय लगातार उनके संपर्क में हैं. उन्होंने कहा कि मंत्रालय लगातार स्थिति की समीक्षा कर रहा है.

एक पत्रकार वार्ता में उन्होंने कहा कि लगभग 120 भारतीय इराक़ के संघर्ष वाले क्षेत्रों में फंसे हैं, इनमें 46 भारतीय नर्सें भी शामिल हैं.

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने कहा कि मंत्रालय सुनिश्चित करने की कोशिश कर रहा है कि संघर्ष वाले इलाक़ों में फंसे भारतीय बाहर निकल सकें.

मंत्रालय के अनुसार इराक़ में तक़रीबन 10 हज़ार से ज़्यादा भारतीय मौजूद हैं और इन्हें तत्काल कोई ख़तरा नहीं है.

हालांकि इन भारतीयों की वैधानिक स्थिति, दस्तावेज़, वीज़ा और अनुबंध संबधित कई मुद्दे अभी स्पष्ट नहीं हैं. उन्होंने कहा कि इराक़ में मौजूद जो भी भारतीय देश वापस आना चाहते हैं उनकी मदद की जा रही है.

प्रार्थना पत्र

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने बताया कि ज़्यादातर भारतीय 12 प्रमुख कंपनियों के लिए काम करते हैं.

इमेज कॉपीरइट AFP

इन कंपनियों के अधिकारियों से भारतीय दूतावास के अधिकारी संपर्क में हैं और भारतीयों की देश वापसी सुनिश्चित करने का प्रयास किया जा रहा है.

अक़बरुद्दीन ने कहा कि इराक़ के भारतीय दूतावास में सोमवार तक लगभग 120 भारतीयों ने सहायता के लिए प्रार्थना पत्र दिए हैं.

वहीं दिल्ली में विदेश मंत्रालय के पास तक़रीबन 300 प्रार्थना पत्र आए हैं. इनमें से कई लोगों ने इराक़ और भारत दोनों जगहों पर प्रार्थनापत्र दिए हैं.

इन प्रार्थना पत्रों में 100 से ज़्यादा में अपने परिवार वालों को भारत वापस लाने में मदद मांगी गई है.

वहीं 100 से ज़्यादा ऐसे प्रार्थना पत्र ऐसे परिवारों के हैं जिन्हें इराक़ में मौजूद अपने रिश्तेदारों के बारे में कोई जानकारी नहीं मिल पा रही है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार