पाइपलाइन में आग से बड़ा इलाक़ा तबाह

आंध्र प्रदेश में गैस पाइपलाइन हादसा इमेज कॉपीरइट AP

आंध्र प्रदेश के पूर्वी गोदावरी ज़िले में भारतीय गैस प्राधिकरण लिमिटेड (गेल) की एक रिफ़ायनरी में शुक्रवार सुबह पाइप लाइन फटने से लगी आग से 15 लोगों की मौत हो गई है. धमाके से घटनास्थल के आसपास तक़रीबन 500 मीटर के दायरे में सबकुछ तबाह हो चुका है.

दुर्घटना में 16 लोगों के घायल होने की भी ख़बर है जबकि 50 से ज़्यादा घर जल गए हैं. घायलों का इलाज़ काकीनाडा और अमलापुरम स्थित अस्पतालों में किया जा रहा है.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने प्रधानमंत्री राहत कोष से सभी मृतकों के परिजनों को दो लाख रुपए देने की घोषणा की है.

ये रिफ़ायनरी नगरम गाँव में स्थित है. हादसे की वजह पाइप की हालत ठीक नहीं होना बताया जा रहा है. इसमें जंग लगी हुई थी. लंबे समय से स्थानीय निवासी इसे ठीक कराने की मांग भी कर रहे थे.

घटना के चश्मदीद स्थानीय निवासी श्रीनिवास ने बताया, "पाइपलाइन से रातभर गैस रिसती रही. गाँव वाले इसके बारे में तीन दिन से शिकायत कर रहे थे लेकिन उनकी शिकायत पर कोई कार्रवाई नहीं हुई."

जाँच के आदेश

इमेज कॉपीरइट AP

स्थानीय पत्रकार धनंजय के अनुसार आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री चंद्रबाबू नायडू और भारत के पेट्रोलियम मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने मौके पर पहुँच कर घटनास्थल का जायज़ा लिया. उन्होंने घटना की जाँच का आदेश भी दिया है.

घटना के कई घंटों की मशक्कत के बाद आग पर काबू पाया जा सका. सुबह आग करीब 500 मीटर के इलाके में लगी थी और लपटों को करीब 250 मीटर तक ऊपर उठते देखा गया.

पूर्वी गोदावरी जिले में गैस पाइप लाइन में आग लगने की छिटपुट घटनाएं पहले भी हो चुकी हैं.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने हादसे के बारे में मुख्यमंत्री चंद्रबाबू नायडू और गेल चेयरमैन से जानकारी ली है.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ट्वीट करके हादसे के प्रति दुख जाहिर किया है. उन्होंने कहा है, ''मेरी सहानुभूति उन परिवारों के साथ है, जिनकी जानें गेल पाइपलाइन में आग लगने से गईं हैं. मैं घायलों के शीघ्र ठीक होने की कामना कर रहा हूं.''

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार