पुरुषों को 'घरेलू हिंसा और उत्पीड़न' से बचाएगी यह ऐप!

पुरुषों का उत्पीड़न इमेज कॉपीरइट THINKSTOCK

एक ऐसी ऐप भी है, जो घरेलू हिंसा या उत्पीड़न के शिकार पुरुषों की मदद के लिए बनाई गई है.

'सिफ़' नाम के इस ऐप को तैयार किया है सेव इंडिया फ़ैमिली फ़ाउंडेशन के कोलकाता चैप्टर 'हृदय नेस्ट' ने.

हृदय नेस्ट के महासचिव अमित गुप्ता कहते हैं, “कोई भी पुरुष जो क़ानूनी या किसी तरह का उत्पीड़न झेल रहा है, इस ऐप की मदद ले सकता है. हमसे संपर्क करने वाले ज़्यादातर लोग कम उम्र के हैं."

संगठन ने परेशानी में फंसे पुरुषों के लिए एक हेल्पलाइन नंबर भी जारी किया है.

'अन्याय के ख़िलाफ़ संघर्ष'

इमेज कॉपीरइट SIFF
Image caption सिफ़ ऐप को अब तक एक हज़ार से ज़्यादा लोगों ने डाउनलोड किया है.

उनका कहना है कि इस ऐप के ज़रिए 25 राज्यों के 50 शहरों में 50 एनजीओ से क़ानूनी मदद के लिए संपर्क किया जा सकता है.

अमित गुप्ता का दावा है कि हेल्पलाइन जारी होने के 50 दिन के भीतर उन्हें 16,000 से ज़्यादा कॉल मिली हैं.

अमित गुप्ता बताते हैं, “सबसे ज़्यादा कॉल मध्य प्रदेश से आई हैं. इनके अलावा कई और देशों से भी कॉल आई हैं."

हृदय नेस्ट का दावा है कि भारत में हर छह मिनट में एक पुरुष आत्महत्या करता है और भारत में पुरुषों पर होने वाली घरेलू हिंसा को सरकार अब भी स्वीकार नहीं करती.

लेकिन क्या इस तरह के ऐप महिलाओं की स्थिति को और कमज़ोर नहीं करेंगे?

इसके जवाब में अमित गुप्ता कहते हैं, "हम यह नहीं कह रहे कि महिलाओं को सुरक्षा नहीं मिलनी चाहिए. हम कह रहे हैं कि उन्हीं परिस्थितियों में पुरुषों को भी सुरक्षा मिले."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार