ग़लती यूपीए की, भुगत रही है एनडीए: जेटली

  • 7 जुलाई 2014
अरुण जेटली, वित्त मंत्री इमेज कॉपीरइट AFP

संसद सत्र के पहले दिन महंगाई के मुद्दे पर विपक्ष के हंगामे का जवाब देते हुए वित्त मंत्री अरुण जेटली ने कहा कि यह पिछली सरकार की देन है. उन्होंने कहा कि उनकी सरकार यूपीए की ग़लती का नतीजा भुगत रही है.

उन्होंने दावा किया कि अब तक सरकार ने महंगाई पर बेहतर ढंग से काबू किया है. राज्यसभा में विपक्ष के आरोपों का जवाब देते हुए वित्त मंत्री ने रेलवे के घाटे को किराए-भाड़े में वृद्धि के लिए ज़िम्मेदार बताया.

  • वित्त मंत्री अरुण जेटली ने कहा है कि किसी भी सार्वजनिक सुविधा का इस्तेमाल करने के लिए लोगों को उसके लिए भुगतान करना होगा.
  • उन्होंने कहा कि सरकार ने तो अभी तक अपनी नीतियां भी पेश नहीं की हैं. रेल बजट और आम बजट मे इन्हें प्रस्तुत किया जाएगा. इससे पहले आरोप लगाना जल्दबाज़ी है.
  • जेटली ने कहा कुछ वस्तुओं की कीमतों में वृद्धि आपूर्ति कम होने से हुई है. इनकी आपूर्ति सुनिश्चित करना पांच हफ़्ते में संभव नहीं है. आपूर्ति शृंखला, भंडारण की व्यवस्था दस साल में की जानी चाहिए थी.
  • यूपीए सरकार में आलू-प्याज़ की कीमत 15-16 रुपये प्रतिकिलो से सौ रुपए तक बढ़ी है. इस साल 25 रुपए प्रति किलो होते ही मोदी सरकार हरकत में आ गई है.
  • आलू-प्याज़ की कीमतों पर नियंत्रण के लिए न्यूनतम निर्यात मूल्य निर्धारित किया गया है और राज्य सरकारों को कहा गया है कि न्यूनतम भंडारण सीमा निर्धारित करें. जो व्यापारी उससे अधिक भंडारण करे, उसके ख़िलाफ़ कार्रवाई की जाए.
  • प्याज़ की कीमत 25 रुपये से अधिक न बढ़े इसके लिए दिल्ली जैसे कई स्थानों पर सफल जैसे सरकारी विपणन केंद्रों के तीन-चार सौ नए केंद्र खोले गए हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार