बजट में लिए गए अहम नीतिगत फ़ैसले

आधारभूत संरचना इमेज कॉपीरइट AFP

वित्त मंत्री अरुण जेटली ने बजट पेश करते हुए कई महत्वपूर्ण नीतिगत फ़ैसले लिए. आइए नज़र डालते हैं कुछ अहम नीतिगत फ़ैसलों पर.

  • रक्षा क्षेत्र और बीमा क्षेत्र में प्रत्यक्ष विदेशी निवेश की सीमा 26 प्रतिशत से बढ़ाकर 49 प्रतिशत कर दी गई है.
  • सभी सरकारी विभागों और मंत्रालयों को इस साल के अंत तक ई-प्लेटफॉर्म से जोड़ने का फैसला लिया गया है.
  • विनिर्माण क्षेत्र को बिना किसी अनुमोदन के ई-कॉमर्स प्लेटफार्म का इस्तेमाल कर व्यापार करने की इजाज़त दी गई है.
  • पीएसयू में पूंजीगत निवेश के लिए 2,47,941 करोड़ रुपयों का प्रस्ताव रखा गया.
  • ग्रामीण क्षेत्रों में रोजगार देने के लिए मनरेगा को जारी रखा जाएगा. (मनरेगा को कितना फंड दिया जाएगा, इसकी घोषणा वित्त मंत्री ने नहीं की)
  • सरकार 2022 तक सभी के लिए आवास उपलब्ध कराने के लिए प्रतिबद्ध है.
  • कृषि विकास दर चार प्रतिशत हासिल करने का लक्ष्य.
  • 5,00,000 भूमिहीन किसानों को नाबार्ड के तहत ऋण देने का प्रस्ताव.
  • छोटे और मझोले उद्योगों के लिए एमएसएमई-दोबारा परिभाषित होगा. इस क्षेत्र के लिए 10,000 करोड़ रुपए का फ़ंड रखा जाएगा.
  • राज्य पुलिस बलों के आधुनिकीकरण के लिए 3000 करोड़ रुपए का प्रस्ताव.
  • पिछली एनडीए सरकार के कार्यकाल में शुरू की गई प्रधानमंत्री सड़क योजना के तहत 14,389 करोड़ रुपए का प्रस्ताव रखा गया है.
  • पीपीएफ योजना की वार्षिक अधिकतम सीमा एक लाख से बढ़ाकर 1.5 लाख रुपए कर दी गई है.
  • 100 स्मार्ट सिटी बनाने के तहत 7,060 करोड़ रूपए का प्रस्ताव.
  • नेशनल इंडस्ट्रियल कॉरिडोर (राष्ट्रीय औद्योगिक गलियारा) की शुरुआत की जाएगी जिसका मुख्यालय पुणे में होगा.
  • पीपीपी के तहत नए एयरपोर्ट विकसित किए जाएंगे.
  • गांवों में ब्रॉडबैंड कनेक्टिविटी मुहैया कराने की भी बात.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार