हाफ़िज़-वैदिक भेंट पर किसने क्या कहा..

इमेज कॉपीरइट ved pratap vaidik

पत्रकार वेद प्रताप वैदिक की जमात उद दावा के प्रमुख हाफ़िज़ सईद से मुलाक़ात के मुद्दे पर मंगलवार को भी विपक्षी राजनीतिक दल सत्ता पक्ष को घेरने का प्रयास करते रहे.

इस मुद्दे पर किसकी क्या प्रतिक्रिया रही और सरकार ने क्या कहा:

राहुल गांधी, कांग्रेस उपाध्यक्ष:

सवाल यह है कि हाफ़िज़ सईद से मुलाक़ात में क्या पाकिस्तान स्थित भारतीय दूतावास ने मदद की थी? ये सभी जानते हैं कि वेद प्रताप वैदिक आरएसएस के आदमी हैं.

सुषमा स्वराज, विदेश मंत्री:

सईद-वैदिक मुलाक़ात का सरकार से कोई लेना-देना नहीं है. इस मुलाक़ात को लेकर सरकार पर लग रहे आरोप न केवल झूठे, बल्कि दुर्भाग्यपूर्ण हैं.

अरुण जेटली, रक्षा मंत्री:

हाफ़िज़ सईद आतंकवादी है और भारत पर हमले का आरोपी है. पत्रकार या किसी अन्य के उनसे मिलने से भारत सरकार का कोई लेना-देना नहीं है.

प्रकाश जावडेकर, सूचना एवं प्रसारण राज्य मंत्री:

वैदिक पत्रकार हैं और उनका सरकार से कोई संबंध नहीं है.

मनीष तिवारी, कांग्रेस नेता:

ऐसा पहले कभी नहीं हुआ कि सरकार के क़रीबी हमारे शत्रुओं से इस तरह मिलें.

अभिषेक मनु सिंघवी, कांग्रेस नेता:

क्या वैदिक अपनी स्वतंत्रता का इस्तेमाल सईद जैसे शख्स को मिलने में कर सकते हैं?

इमेज कॉपीरइट Ved Pratap Vaidik

ग़ुलाम नबी आज़ाद, कांग्रेस नेता:

भाजपा ने यासीन मलिक की हाफिज़ से मुलाक़ात का विरोध करते हुए मलिक की गिरफ़्तारी की मांग की थी. अब इस पर वे क्या कहेंगे?

संजय राउत, प्रवक्ता शिवसेना:

अगर कश्मीर के बारे में वैदिक के कथित बयानों में सच्चाई है तो उनके ख़िलाफ़ कार्रवाई होनी चाहिए.

वेद प्रताप वैदिक:

कांग्रेस ने संसद का मजाक बना दिया है. मुझे इसलिए बुरा लगा कि मैंने कांग्रेस के लिए काम किया है, वे मेरे लोग हैं. मैं पिछले 40 साल से विदेश जाता रहा हूं. क्या दूतावास ऐसी यात्राओं में मदद करते हैं?

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार