फ़्लिपकार्ट ने जुटाए 60 अरब रूपए

फ़्लिपकार्ट इमेज कॉपीरइट flipcart

ऑनलाइन शॉपिंग की भारत की सबसे बड़ी कंपनी फ़्लिपकार्ट का कहना है कि उसने अपने वर्तमान निवेशकों से ही एक अरब डॉलर (साठ अरब रुपये से अधिक) जुटाए हैं. इन निवेशकों में टाइगर ग्लोबल, नैस्पर्स और सिंगापुर की सॉवेरेन वेल्थ फंड जीआईसी शामिल हैं.

ताज़ा मूल्यांकन में फ़्लिपकार्ट की कीमत 6-7 अरब डॉलर आंकी गई है जो कि इसी साल मई में हुए 2.6-3 अरब डॉलर के मुकाबले दोगुने से ज़्यादा है.

कंपनी के सहसंस्थापक और मुख्य कार्यकारी अधिकारी सचिन बंसल ने कहा, "फ़्लिपकार्ट और भारत की अन्य इंटरनेट कंपनियों के लिए यह एक बड़ी उपलब्धि है. हमने पूरी तरह से एक नया प्रतिमान गढ़ा है."

कंपनी ने अब तक रिस्क कैपिटल फंडिंग में 1.7 अरब डॉलर जुटाए हैं. मई में फ़ैशन पोर्टल मिंत्रा के अधिग्रहण के बाद फ़्लिपकार्ट ने 21 करोड़ रुपये जुटाए थे जिसमें मुख्य भूमिका रूसी अरबपति यूरी मिलनेर की डीएसटी ग्लोबल की थी.

भारत का ई-कॉमर्स सेक्टर पिछले कुछ महीनों से निवेशकों का पसंदीदा बन गया है. रिसर्च फ़र्म सीबी इनसाइट के अनुसार पिछले वित्तीय वर्ष में टेक्नोलॉजी कंपनियों के करीब 77 अरब रुपये के कारोबार का 72 फ़ीसदी ई-कॉमर्स कंपनियों के ज़रिए हुआ है.

इस दौर के निवेश से फ़्लिपकार्ट को निरंतर आक्रामक हो रही अमेज़न से मुकाबला करने में मदद मिलेगी. अमेज़न 28 श्रेणियों में विस्तार कर चुकी है और 8,500 विक्रेताओं को मंच उपलब्ध करवा रही है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार