लीबिया से 44 नर्सें भारत लौटीं

लीबिया नर्सें इमेज कॉपीरइट kerala government

हिंसा से जूझ रहे लीबिया में फंसी 44 भारतीय नर्सें मंगलवार को स्वदेश लौट आईं.

नॉन रेसीडेंट केरल अफ़ेयर्स के सीईओ पी सुदीप ने बीबीसी हिंदी को बताया कि ये नर्सें ट्यूनीशिया के रास्ते कोच्चि पहुंची हैं.

कुल 58 भारतीय नर्सें त्रिपोली से ट्यूनीशिया पहुँची थीं जिनमें से 44 नर्सों का पहला दल स्वदेश पहुँच गया.

सुदीप ने समाचार एजेंसी पीटीआई को बताया कि तीन और नर्सों के दूसरी उड़ान से यहां पहुँचने की उम्मीद है जबकि बाकी नर्सें बुधवार को आ सकती हैं.

उन्होंने बताया कि राज्य सरकार ने कोच्चि से आगे की यात्रा के लिए हर नर्स को दो हज़ार रुपए देगी.

केरल के मुख्यमंत्री ओमेन चांडी ने एक अगस्त को विदेश मंत्री सुषमा स्वराज को पत्र लिखकर लीबिया में फंसी भारतीय नर्सों की स्वदेश वापसी का इंतजाम करने का अनुरोध किया था.

मौत

इमेज कॉपीरइट AFP

इस बीच लीबिया की राजधानी त्रिपोली में सोमवार को एक भारतीय सोलोमन डेनियल की गोली लगने से मौत हो गई थी.

उनकी कंपनी उन्हें सुरक्षित ठिकाने की ओर ले जा रही थी कि तभी वह गोलीबारी की चपेट में आ गए.

कर्नल मोअम्मर गद्दाफ़ी को साल 2011 में सत्ता से बेदख़ल किए जाने के बाद से लीबिया में अंदरूनी संघर्ष जारी है.

इमेज कॉपीरइट Reuters

देश भर में स्थानीय लड़ाकों ने सरकार के ख़िलाफ़ मोर्चा खोल रखा है. त्रिपोली में भी सरकारी सुरक्षा बलों और लड़ाकों में लड़ाई जारी है.

उल्लेखनीय है कि साल 2011 में लीबिया में गृहयुद्ध के दौरान वहां फंसे भारतीयों को निकालने के लिए भारत सरकार ने एक विशेष अभियान चलाया था.

इससे पहले इराक में फंसी 46 नर्सें पिछले महीने एयर इंडिया की विशेष उड़ान से स्वदेश पहुंची थीं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार