कार्टून की दुनिया के प्राण नहीं रहे

भारत के मशहूर कार्टूनिस्ट प्राण का 76 साल की उम्र में निधन हो गया. वे कैंसर से पीड़ित थे.

उनकी पुत्रवधू ज्योति प्राण ने बीबीसी हिंदी को बताया, "वे बीते कई सालों से कैंसर से पीड़ित थे. पिछले दस दिनों से वे अस्पताल के इंटेशिव केयर यूनिट में भर्ती थे. जहां मंगलवार रात उन्होंने अंतिम सांस ली."

प्राण का ऑडियो इंटरव्यू सुनने के लिए क्लिक करें.

प्राण ने 1960 से कार्टून बनाने की शुरुआत की थी. उन्होंने दिल्ली से प्रकाशित होने वाले अख़बार मिलाप से कार्टून बनाने की शुरुआत की.

उनके बनाए कार्टून चरित्र चाचा चौधरी और साबू घर-घर में लोकप्रिय किरदार बन गए.

चाचा चौधरी के जनक

चाचा चौधरी का किरदार उन्होंने सबसे पहले हिंदी बाल पत्रिका लोटपोट के लिए गढ़ा था. जो बाद में स्वतंत्र कॉमिक्स के तौर पर बेहद मशहूर हुआ.

बाद में वो भारतीय कॉमिक जगत के सबसे सफल कार्टूनिस्टों में से एक गिने जाने लगे.

प्राण का बीबीसी हिंदी के लिए सीरीज़

इसके अलावा डायमंड कॉमिक्स के लिए प्राण ने कई अन्य कामयाब किरदारों को जन्म दिया. इनमें रमन, बिल्लू और श्रीमतीजी जैसे कॉमिक चरित्र शामिल थे.

उनका जन्म 15 अगस्त, 1938 को लाहौर में हुआ था. उनका पूरा नाम प्राण कुमार शर्मा था, लेकिन वो प्राण के नाम से ही मशहूर हुए. वैसे उन्हें भारत का वाल्ट डिजनी भी कहा जाता था.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार