'हाथी' का 'साइकिल' पर बैठने से इनकार

मुलायम और मायावती इमेज कॉपीरइट AFP

बहुजन समाज पार्टी की प्रमुख मायावती ने समाजवादी पार्टी से हाथ मिलाने का प्रस्ताव ख़ारिज कर दिया है.

मायावती ने कहा कि जब भी राज्य में समाजवादी पार्टी की सरकार बनती है राज्य में क़ानून-व्यवस्था की समस्या पैदा हो जाती है.

पिछले दिनों बिहार में धुर विरोधी माने जाने वाले लालू प्रसाद यादव और नीतीश कुमार ने हाथ मिलाए हैं और वे साथ मिलकर उपचुनाव लड़ रहे हैं.

इस दौरान एक चुनाव सभा को संबोधित करते हुए लालू प्रसाद ने कहा था कि उत्तर प्रदेश में भी सपा और बसपा को साथ आना चाहिए.

इसी पर सपा प्रमुख मुलायम सिंह यादव ने अपने ही अंदाज़ में बुधवार को संकेत दिए थे कि वह बसपा के साथ हाथ मिला सकते हैं.

मुलायम का अंदाज़

बिहार की तर्ज पर उत्तर प्रदेश में भी महागठबंधन करने के लालू प्रसाद यादव के प्रस्ताव पर मुलायम से बुधवार को पत्रकारों ने सवाल किया.

संसद की ओर बढ़ते मुलायम ने इस मौक़े पर कहा, "लालू, मायावती का हाथ पकड़कर हमारे पास लाएं तो मैं हाथ मिलाने को तैयार हूं."

हाल ही में संपन्न लोकसभा चुनाव में उत्तर प्रदेश की दोनों दिग्गज पार्टियों की करारी शिकस्त हुई थी.

जहां प्रदेश में सत्तारूढ़ सपा 5 सीटें ही जीत सकी थी और जीतने वाले भी सिर्फ़ 'यादव परिवार' के सदस्य थे, वहीं बसपा तो अपना खाता भी नहीं खोल सकी थी.

(बीबीसी हिंदी के एंड्रॉएड ऐप के लिए क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार