कुर्क होगी जगन की 800 करोड़ की संपत्ति

जगनमोहन रेड्डी इमेज कॉपीरइट AP

दिल्ली की एक विशेष अदालत ने वाईएसआर कांग्रेस नेता जगनमोहन रेड्डी और उनके सहयोगियों की 863 करोड़ रुपये की संपत्ति कुर्क करने के आदेश दिए हैं.

मनी लांड्रिंग के मामलों की सुनवाई करने वाली अदालत ने यह आदेश प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) की जांच और नोटिस के आधार पर दिया.

जगनमोहन रेड्डी और उनके सहयोगी निम्मागडा प्रसाद पर आंध्र प्रदेश में बुनियादी ढ़ांचे संबंधी परियोजनाओं में कथित तौर पर भ्रष्टाचार और मनी लांड्रिंग का आरोप हैं.

पिता की सरकार

ईडी ने इस साल मार्च में जगनमोहन रेड्डी और निम्मागडा प्रसाद को नोटिस दिया था. उनकी कंपनियों को आंध्र प्रदेश की तत्कालीन सरकार ने वाडारेवू और निजामपत्तन इंडस्ट्रीयल कॉरिडोर (वीएएनपीआईसी) में कथित तौर पर बेजा फायदा पहुँचाया था.

उस समय जगनमोहन रेड्डी के पिता वाईएस राजशेखर रेड्डी आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री थे.

समाचार एजेंसियों के मुताबिक़, अदालत ने प्रिवेंशन ऑफ़ मनी लांड्रिंग एक्ट (पीएसएलए) के तहत संपत्ति कुर्क करने का आदेश दिया है.

केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) की एफ़आईआर के आधार पर ईडी ने साल 2012 में कुछ लोगों और उनसे जुड़ी कंपनियों के खिलाफ आपराधिक मामला दर्ज किया था.

ईडी की जांच में कहा गया कि इन समझौतों में पक्षपात किया गया और पैसों का लेन-देन हुआ.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार