बदायूँ हत्याकांड: 'नहीं भरोसा सीबीआई पर'

  • 21 अगस्त 2014

बदायूँ में दो किशोरियों के साथ हुए कथित बलात्कार मामले में एक किशोरी के पिता ने सीबीआई जांच से असहमति जताई है.

सोहन लाल ने सीडीएफ़डी में हुई फोरेंसिक जांच को सिरे से ख़ारिज कर दिया है जिसके अनुसार इसी वर्ष मई में, 'मौत के पहले किशोरियों के साथ यौन हिंसा का कोई सबूत नहीं मिला है'.

सीबीआई की प्रवक्ता कंचन प्रसाद ने बीबीसी को बताया, "सीडीएफ़डी की फ़ॉरेंसिक रिपोर्ट में लड़कियों के साथ यौन हिंसा का कोई सबूत नहीं मिला है."

लेकिन सोहन लाल का कहना है, "हमें ये तक नहीं पता कि लैब में जो सैम्पल भेजे गए वे मेरी बेटी के थे या फिर किसी और के. पहले सीबीआई ने शवों को कब्र से निकालकर जांच करने में देरी की और अब ये बताया जा रहा है".

इमेज कॉपीरइट AFP

इससे पहले सीबीआई ने अपनी जांच के लिए शवों को दोबारा निकालकर जांचने की कोशिश की थे लेकिन बाढ़ के पानी के चलते वे विफल रहे.

इस मामले में पांच लोग हिरासत में हैं जिन पर किशोरियों के परिवार ने बलात्कार और हत्या के आरोप लगाए हैं.

मामला शुरू से ही पेचीदा रहा है क्योंकि शुरुआती पोस्टमॉर्टम में डॉक्टरों ने युवतियों के साथ यौन शोषण होने की बात कही थी.

लेकिन पिछले कुछ दिनों में मामले के प्रमुख गवाह- लड़कियों के एक पड़ोसी- समेत परिवार वालों के दावों पर भी सवाल उठे हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)