ये लाल रंग अब नहीं छोड़ेगा !

प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा

ये हैं बंगलौर के रहने वाले सेवेन राज. जी हां, वही संख्या वाला सात यानी सेवेन. इनके इस अलग नाम की वजह से इनके दोस्त इन्हें 007 या जेम्स बॉन्ड बुलाते हैं. यहां तक कि जब कोई फ़ोन करता है और ये व्यस्त रहते हैं तो उसे सुनाई पड़ता है. "जेम्स बॉन्ड अभी व्यस्त हैं, कृपया थोड़ी देर बाद फिर कोशिश करें."

सेवेन राज, बंगलौर में प्रॉपर्टी डीलर हैं. 35 साल पहले जब उन्होंने अपना ये काम शुरू किया था तो उस वक़्त एडवर्टाइज़िंग आज की तरह प्रचलित नहीं थी. तब उन्होंने अपनी पहचान बनाने के लिए लाल रंग का इस्तेमाल शुरू कर दिया. उन्होंने अपनी बाइक को इन्हीं दो रंगो में पेंट कर दिया और कपड़े भी इन्हीं रंगों के पहनने लगे.

धीरे-धीरे सेवेन का कारोबार फलने फूलने लगा. तब उन्होंने ठान लिया कि इन दो रंगों के अलावा किसी और रंग का इस्तेमाल नहीं करेंगे. इनका पूरा घर सिर्फ़ लाल और सफ़ेद रंग का है.

इनके घर का हर कमरा और उसमें रखी चीज़ें लाल और सफ़ेद रंगों की ही हैं. घर के कपड़े, चादर वगैरह से लेकर हर सामान इन्हीं दो रंगों का है.

सेवेन राज के परिवार में पत्नी पुष्पा, बेटी मनीषा और बेटा भारत हैं. इस परिवार को बंगलौर की ‘रेड एंड व्हाइट फ़ैमिली’ कहा जाता है.

सेवेन राज बताते हैं कि उनके कपड़े, जुराबें, रुमाल, अंडरवियर, बनियान, सब कुछ सिर्फ़ लाल और सफ़ेद ही हैं. राज कहते हैं, "अब ये रंग मेरी और मेरे परिवार की पहचान बन चुके हैं."

सेवेन राज की पत्नी कहती हैं, "ये तो अपनी शादी में भी इसी रंग में आए थे. मैंने सोचा शायद ये शादी के बाद बदल जाएं लेकिन इन्होंने तो हमें ही बदल दिया."

सेवेन राज बताते हैं कि उन्हें इन रंगों के जुनून की वजह से कई बार मज़ाक का पात्र भी बनना पड़ता है.

लेकिन सेवेन 'मरते दम तक' इन रंगों का साथ छोड़ने के लिए तैयार नहीं हैं. वह मानते हैं कि इन्हीं दो रंगों की वजह से उनके परिवार में और ज़िंदगी में ख़ुशहाली है.

(बीबीसी हिंदी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार