मुंबई हमलों के छह साल बाद खुला खबाड हाउस

यहूदी सेंटर मुंबई इमेज कॉपीरइट AFP GETTY

मुंबई में 2008 के चरमपंथी हमलों में निशाना बने यहूदी सेंटर खबाड हाउस को छह साल बाद खोला जा रहा है.

हमलों के दौरान बंदूकधारियों ने इस इमारत पर भी धावा बोला था, जिसमें छह यहूदियों की मौत हो गई थी.

मारे गए लोगों में 29 वर्षीय रब्बी गेवरील होल्ज़बर्ग और उनकी पत्नी रिवेका भी शामिल थीं जो उस समय खबाड हाउस यहूदी सांस्कृतिक सेंटर का संचालन करते थे.

लेकिन हमले के दौरान रब्बी दम्पति का दो वर्षीय बेटा मोशे ज़िंदा बच गया था.

यह बच्चा अपने माता-पिता के शवों के क़रीब रोते हुए उनकी भारतीय नौकरानी को मिला था.

दुनिया के लिए संदेश

मंगलवार को इस सेंटर के नए भवन में पूरे एशिया से 25 यहूदी धर्मगुरु जुट रहे हैं.

सेंटर के नए समन्वयक कोज़्लोवस्की और उनकी पत्नी छाया ने समाचार एजेंसी एएफ़पी से कहा, "हम नए भवन में प्रवेश नहीं कर रहे हैं, हम अपने ही भवन में लौट रहे हैं और यहां होने वाली सारी गतिविधियों को फिर से शुरू करेंगे."

इस सेंटर के निर्माण में मदद करने वाले रब्बी मोशे कोत्लारस्के ने कहा कि इस सेंटर का फिर से खुलना 'पूरी दुनिया के लिए एक संदेश' होगा.

इमेज कॉपीरइट AFP

साल 2008 के मुंबई हमलों में होटल ताज महल, ओबेरॉय होटल और यहूदी सेंटर को निशाना बनाया गया था, जिसमें कुल 166 लोग मारे गए थे.

(बीबीसी हिंदी का एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए यहां क्लिक करें. आप ख़बरें पढ़ने और अपनी राय देने के लिए हमारे फ़ेसबुक पन्ने पर भी आ सकते हैं और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार