डीएलएफ़ पर 630 करोड़ का जुर्माना

भारत, सुप्रीम कोर्ट इमेज कॉपीरइट AFP

भारत के सुप्रीम कोर्ट ने रियल एस्टेट कंपनी डीएलएफ़ से कहा है कि वो तीन महीने में 630 करोड़ रुपये का जुर्माना भरे.

डीएलएफ़ पर भारतीय प्रतिस्पर्धा आयोग यानी कॉम्पिटीशन कमीशन ऑफ़ इंडिया ने कथित तौर पर ग़लत व्यापार व्यवहार के लिए जुर्माना लगाया है.

भारतीय प्रतिस्पर्धा आयोग के मुताबिक उसने साल 2011 में अपनी जांच में पाया था कि डीएलएफ़ व्यापार नियमों का उल्लंघन कर रही है और गुड़गांव के रियल एस्टेट बाज़ार में अपने दबदबे का ग़लत इस्तेमाल कर रही है जिससे ख़रीदारों को नुकसान हो रहा है.

कोर्ट ने कहा कि डीएलएफ़ तीन हफ़्तों में 50 करोड़ रुपए जमा कराएगी और बाकी के 580 करोड़ रुपए तीन महीने के अंदर जमा कराएगी.

सुप्रीम कोर्ट ने अपने रजिस्ट्रार से कहा है कि वो ये रकम किसी सरकारी बैंक में फ़िक्स्ड डिपॉज़िट कर दे.

सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद डीएलएफ़ का शेयर 8.50 रुपए गिरकर 183 रुपए पर बंद हुआ.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार