मोदी: बदले बदले से सरकार नज़र आते हैं

इमेज कॉपीरइट EPA

भारत के प्रधानमंत्री बनने के बाद क्या मोदी की ज़ुबान बदल गई है?

चुनाव अभियान के दौरान इस्तेमाल किए गए शब्द और प्रधानमंत्री बनने के बाद इस्तेमाल किए जा रहे शब्दों के बीच का तुलनात्मक अध्ययन बताता है कि मोदी की ज़ुबान में नरमी आई है.

पहले वे विपक्षी दलों पर हमला करते वक्त बेहद आक्रामक हो जाते थे. पाकिस्तान और चीन जैसे पड़ोसियों के लिए भी तीखे शब्दों का इस्तेमाल करते थे. चुनाव प्रचार के दौरान उन्होंने भ्रष्टाचार के मुद्दे पर कांग्रेस को निशाना बनाया था.

चुनाव से पहले परिवारवाद पर हमला करने वाले मोदी अब अपने भाषणों से मोटे तौर पर राहुल और सोनिया का नाम लेने से परहेज करने लगे हैं.

डेवलपमेंट और इंडिया

चुनाव अभियान के दौरान मोदी अपने भाषणों में डेवलपमेंट और इंडिया पर काफ़ी जोर देते थे. प्रधानमंत्री बनने के बाद भी इन दोनों शब्द का इस्तेमाल वे लगातार कर रहे हैं.

इमेज कॉपीरइट wordle
Image caption प्रधानमंत्री बनने के बाद मोदी के भाषणों में प्रयुक्त होने वाले शब्दों का वर्ड क्लाउड.

मोदी का ध्यान विकास पर है और वे भारत को भ्रष्टाचार मुक्त बनाने की बात भी कर रहे हैं.

कुछ विश्लेषकों की राय में मोदी अपनी पार्टी के हिंदुत्व विचारधारा से अलग हट रहे हैं. वे भ्रष्टाचार मुक्त भारत की बात कर रहे हैं. वे बेहतर आर्थिक विकास दर, पुख़्ता राष्ट्रीय सुरक्षा और महिलाओं लिए सुरक्षित भारत की बात कर रहे हैं.

चुनाव अभियान के दौरान मोदी ने विदेश नीति पर कुछ नहीं कहा. वे हमेशा चीन और पाकिस्तान की बात करते रहे और कहते रहे कि पड़ोसी देशों से आने वाले किसी ख़तरे के लिए भारत को तैयार रहना चाहिए.

लेकिन अब उनका रवैया बदल गया. उन्होंने अपने शपथ ग्रहण में उन्होंने दक्षिण एशिया के सभी राष्ट्राध्यक्षों को आमंत्रित किया.

लेकिन अब उनकी सरकार ने पाकिस्तान के साथ बातचीत रद्द कर दी. उनके नेपाल और भूटान दौरे को पाकिस्तान की ओर से ध्यान हटाने के कदम के तौर पर देखा जा सकता है.

बदली प्राथमिकताएं

वे अपने भाषण में चीन और जापान के विकास मॉडल की बात भी कर रहे हैं. प्रधानमंत्री बनने के बाद उन्होंने महिलाओं की सुरक्षा पर भी ध्यान दिया है. स्वतंत्रता दिवस पर दिए संबोधन में उन्होंने ग्रामीण इलाकों में शौचालय बनाने पर जोर दिया था.

इमेज कॉपीरइट wordle
Image caption आम चुनाव के दौरान मोदी के भाषणों में शामिल मुद्दों का वर्ड क्लाउड.

मोदी ने भारत के शहरों और गांवों की सफाई की बात भी की है.

चुनाव अभियान के दौरान वे समृद्ध भारत की बात करते थे. लेकिन प्रधानमंत्री बनने के बाद वे रक्षा और उत्पादन जैसे ख़ास क्षेत्रों की बात करने लगे हैं.

प्रधानमंत्री बनने के बाद उन्होंने भारत की अंतरिक्ष तकनीक के विकास को भी अपनी प्राथमिकताओं में शामिल किया है.

( बीबीसी मॉनिटरिंग दुनिया भर के टीवी, रेडियो, वेब और प्रिंट माध्यमों में प्रकाशित होने वाली ख़बरों पर रिपोर्टिंग और विश्लेषण करता है. आप बीबीसी मॉनिटरिंग की खबरें ट्विटर और फ़ेसबुक पर भी पढ़ सकते हैं. बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार