अल क़ायदा की घोषणा, भारत परेशान हो?

  • 4 सितंबर 2014
अयमन अल ज़वाहिरी Image copyright Reuters

अल क़ायदा नेता अयमन अल ज़वाहिरी ने क़ायदात अल जिहाद के नाम से भारतीय उपमहाद्वीप में अपने संगठन की शाखा बनाने की घोषणा की है.

आपको याद होगा कि कुछ हफ़्ते पहले ही इस्लामिक स्टेट (आईएस) के नेता अबू बक़र अल बग़दादी ने भी दक्षिण एशिया में अपने संगठन की शाखा खोलने की इच्छा जताई थी.

(पढ़ें : भारतीय उप महाद्वीप में अल क़ायदा की शाखा)

इन घोषणाओं को देखते हुए मुझे लगता है कि इन दोनों गुटों की पहली नज़र उन लोगों पर है, जो सेंट्रल एशिया के उज़बेकिस्तान जैसे देशों से निकलकर पाकिस्तान में आए हैं.

पाकिस्तान के वज़ीरीस्तान इलाक़े में पिछले कुछ महीनों में चरमपंथियों के ख़िलाफ़ जो अभियान चलाया गया है.

इस अभियान के बाद से उज़बेकिस्तान से आए जेहादी ग्रुप तितर-बितर हो गए हैं. इसके बाद से वहाँ बेठिकाना जेहादियों की संख्या ज़्यादा हो गई है. ये जेहादी अब या तो अल क़ायदा में शामिल हों या आईएस में जाएं.

अलक़ायदा आईएस में होड़

यह बात ध्यान देने वाली है कि अरब जगत में पिछले कुछ सालों में हुए आंदोलनों (अरब स्प्रिंग) के बाद से अलक़ायदा की अहमियत कम हो गई है.

Image copyright Reuters

अब जब आईएस सामने आया है. उसे देखने से लगता है कि वह अलक़ायदा का ही एक नया रूप है. अलक़ायदा में तो पहले वाली बात नहीं रही. वो किसी इलाक़े पर कब्ज़ा कर वहाँ अपना नियंत्रण स्थापित नहीं करता.

वहीं आईएस किसी सेना की तरह अभियान चला रही है. वह इलाक़ों पर कब्ज़ा कर उन्हें अपने नियंत्रण में ले रहा है.

भारत और चीन दोनो को समस्या

Image copyright BBC World Service

अब अल क़ायदा की इस नई घोषणा को देखते हुए लगता है कि वो भी भर्तियों और संसाधन बढ़ाने के लिए इस तरह की घोषणाएं कर रहे हैं.

अल क़ायदा की इस घोषणा के बाद भारत को चिंतित होना चाहिए. यह न केवल भारत बल्कि चीन के लिए भी समस्याएं खड़ी कर सकता है. क्योंकि चीन के वीगर मुसलमान जो की वहाँ की सरकार से लड़ रहे हैं, उनसे अल क़ायदा का संबंध बढ़ेगा.

भारत चीन अकेले नहीं परेशान होंगे. अल क़ायदा अगर दक्षिण एशिया पर केंद्रित को कोई गुट बनता है, तो वह न केवल भारत-चीन बल्कि बांग्लादेश और बर्मा (जहाँ रोहिंग्या मुसलमान सरकार के ख़िलाफ़ हैं) के लिए भी समस्याएं खड़ी कर सकता है.

(बीबीसी संवाददाता पंकज प्रियदर्शी से हुई बातचीत पर आधारित)

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार