तारा शाहदेव ने फिर उठाई बंदूक़

तारा सहदेव इमेज कॉपीरइट Gaurav

निशानेबाज़ तारा शाहदेव ने फिर प्रैक्टिस शुरू कर दी है और वो 18 सितंबर से होने वाले पूर्वी क्षेत्र निशानेबाज़ी प्रतियोगिता में भाग लेंगी.

शुक्रवार से उन्होंने शूटिंग रेंज में राइफ़ल अभ्यास शुरू कर दिया और उनका लक्ष्य है अगला ओलंपिक खेलने का.

उन्होंने कहा,''निशानेबाज़ी ही अब सहारा है, जो मेरी जिंदगी संवारेगा.''

तारा शाहदेवने कहा कि उनका लक्ष्य ओलंपिक में देश का प्रतिनिधित्व करने का है.

ओलंपिक का सपना

तारा कहती हैं कि उनके नाम के साथ एक शब्द जुड़ा था - शूटर. इसलिए शूटिंग के जरिए ही वे अंधेरे से बाहर निकलने की कोशिश कर रही हैं.

वो कहती हैं कि केवल डेढ़ महीने में ही उन्हें जितने जख़्म मिले हैं उसे भरने में वक़्त लग सकता है.

इमेज कॉपीरइट Gourav

तारा ने बताया कि उन्होंने 12वीं की परीक्षा प्रथम श्रेणी में पास की है. अब वे स्नातक में दाख़िले के लिए आवेदन करेंगी.

लड़ाई को समर्थन

उन्होंने कहा कि उनकी लड़ाई दो मोर्चों पर है. वो चाहती हैं कि अपने पति के ख़िलाफ़ लगाए आरोपों को साबित कर उन्हें सज़ा दिलाएँ और दूसरा निशानेबाजी में शोहरत हासिल करें.

कथित तौर पर धर्म परिवर्तन के लिए पति और सास द्वारा शारीरिक व मानसिक तौर पर प्रताड़ित किए जाने के मामले को लेकर वो पिछले कुछ दिनों से सुर्खियों में हैं.

हालाँकि उनके पति ने इन सभी आरोपों को ख़ारिज किया है.

इसके बाद उनके पति और सास को गिरफ़्तार कर लिया गया. इस समय दोनों जेल में हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार