'एलजी को भाजपा को न्योता देने से रोकें'

अरविंद केजरीवाल इमेज कॉपीरइट AFP

अरविंद केजरीवाल के नेतृत्व में आम आदमी पार्टी के वरिष्ठ नेताओं ने शनिवार को राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी से मुलाक़ात की. उन्होंने राष्ट्रपति से उप राज्यपाल नजीब जंग को भारतीय जनता पार्टी को दिल्ली में सरकार बनाने का निमंत्रण देने से रोकने का आग्रह किया.

राष्ट्रपति को सौंपी अपनी रिपोर्ट में उप राज्यपाल नजीब जंग ने दिल्ली विधानसभा में सबसे बड़े दल भाजपा को सरकार बनाने का न्योता देने की मंज़ूरी मांगी है.

अरविंद केजरीवाल ने भाजपा पर विधायकों की ख़रीद-फ़रोख़्त का आरोप लगाया है.

केजरीवाल ने कहा, "भाजपा दिल्ली में विधायकों की ख़रीद-फ़रोख्त करके सरकार बनाना चाहती है. भाजपा को सरकार बनाने का निमंत्रण देना लोकतंत्र की हत्या होगी."

उन्होंने कहा, "मैंने आम आदमी पार्टी के विधायकों से कहा है कि अगर भाजपा नेता उन्हें रिश्वत देने की कोशिश करते हैं तो उन्हें इनकार नहीं करना चाहिए, बल्कि वे उन्हें कैमरे में रिकॉर्ड कर लें."

ख़रीद-फ़रोख़्त नहीं

इस बीच, गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने केजरीवाल के आरोपों को ख़ारिज़ किया है और कहा कि उनकी पार्टी दिल्ली में सरकार बनाने के लिए विधायकों की ख़रीद-फ़रोख़्त में शामिल नहीं होगी.

राजनाथ सिंह ने कहा कि भाजपा दिल्ली में सरकार बनाने के संवैधानिक समाधान को स्वीकार करेगी.

इमेज कॉपीरइट AFP

अरविंद केजरीवाल के इस्तीफ़े के बाद दिल्ली में 17 फ़रवरी से राष्ट्रपति शासन लागू है.

आम आदमी पार्टी ने भाजपा को दिल्ली में नए चुनाव कराने की भी चुनौती दी है.

उधर, दिल्ली के भाजपा अध्यक्ष सतीश उपाध्याय ने कहा कि यदि चुनावों की घोषणा होती है तो उनकी पार्टी इसके लिए तैयार है.

लोकसभा चुनावों में तीन विधायकों के सांसद चुने जाने के बावजूद दिल्ली विधानसभा में भाजपा सबसे बड़ी पार्टी है. उसके विधायकों की संख्या 29 है, जबकि विधानसभा में आप के 27 और कांग्रेस के 8 सदस्य हैं.

(बीबीसी हिंदी का एंड्रॉयड ऐप डाउनलोड करने के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार