कश्मीर: राहत में जुटे 23 विमान, 26 हेलिकॉप्टर

जम्मू-कश्मीर में वायुसेना अभियान इमेज कॉपीरइट Reuters

जम्मू-कश्मीर में बाढ़ प्रभावित इलाक़ों में राहत और बचाव कार्यों में 23 विमानों और 26 हेलिकॉप्टरों को लगाया गया है.

केंद्र सरकार की एक विज्ञप्ति के मुताबिक़ कुल 850 लोगों को बाढ़ प्रभावित इलाक़ों से हेलीकॉप्टर के ज़रिए निकाला गया है.

रविवार को एक सी-17 ग्लोबमास्टर विमान दिल्ली से अवंतीपुर पहुंचा जबकि दवाओं और नावों को लेकर दो आईएल-76 विमानों ने श्रीनगर के लिए उड़ान भरी.

एनडीआरएफ़ की टीमों को लेकर एक आईएल-76 विमान भी दिल्ली से श्रीनगर के लिए रवाना हुआ.

पुणे और गांधीनगर से नावों को श्रीनगर पहुंचाने और तीन हज़ार टेंटों तथा दस हज़ार कंबलों को कानपुर से जम्मू और श्रीनगर पहुंचाने के लिए तीन सी-130 जे सुपर हरक्यूलस विमानों को लगाया गया है.

वायुसेना ने कुल 12 एएन-32, चार आईएल-76, पांच सी-130जे और दो सी-17 विमानों को राहत कार्यों पर लगाया गया है. साथ ही 26 हेलिकॉप्टर बचाव कार्य में जुटे हैं.

दौरा

सेना और एनडीआरएफ़ के जवान भी राहत और बचाव में जुटे हैं.

इमेज कॉपीरइट Reuters

इस बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को जम्मू-कश्मीर का दौरा कर स्थिति का जायजा लिया.

बीबीसी संवाददाता रियाज़ मसरूर के मुताबिक़ बाढ़ के कारण मरने वालों की संख्या 150 से ऊपर पहुंच चुकी है.

इमेज कॉपीरइट AFP

कुछ लोगों ने प्रशासन के रवैये पर नाखुशी का इजहार किया और मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला के ख़िलाफ़ नारेबाज़ी भी की.

इमेज कॉपीरइट AFP
इमेज कॉपीरइट EPA
इमेज कॉपीरइट EPA
इमेज कॉपीरइट EPA

अलगाववादी नेता सैय्यद अली गिलानी ने भी आरोप लगाया है कि सरकार ने बाढ़ से पीड़ित लोगों को अपने हाल पर छोड़ दिया है. उन्होंने अपने कार्यकर्ताओं से बाढ़ पीड़ितों की मदद करने को कहा है.

बाढ़ के कारण हज यात्रा और जम्मू में माता वैष्णो देवी की यात्रा को रोक दिया गया है.

(बीबीसी हिंदी का एंड्रॉयड ऐप डाउनलोड करने के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार