श्रीनगर: बाढ़ का पानी घटा, 75000 निकाले गए

इमेज कॉपीरइट EPA

जम्मू-कश्मीर के श्रीनगर में पानी कम हो रहा है जिससे 27,000 और लोगों को बाहर निकालने में सुविधा हुई है.

बाढ़ग्रस्त कश्मीर घाटी में अब भी एक अनुमान के मुताबिक़ कम से कम चार लाख लोगों को सहायता की ज़रूरत है.

राहत सहायता को और बढ़ाते हुए सेना और वायु सेना ने अपनी 329 टुकड़ियां तैनात की हैं. लोगों को बाहर निकालने के लिए 79 विमानों और हेलिकॉप्टरों की मदद ली जा रही है.

रक्षा मंत्रालय के पीआरओ कर्नल जीडी गोस्वामी ने बुधवार को कहा, "भारतीय सेना ने बड़ा राहत एवं बचाव कार्य शुरू किया है. पूरे जम्मू-कश्मीर में युद्ध स्तर पर काम चल रहा है. पूरे इलाक़े में सेना और एनडीआरएफ ने अब तक 76,500 लोगों को सुरक्षित बाहर निकाला है.’’

बचाव के लिए टुकड़ियाँ

कर्नल गोस्वामी ने बताया कि श्रीनगर में पानी तीन से चार फ़ीट कम हुआ है जबकि वुलर झील में पानी का स्तर छह इंच बढ़ा है. मानसबल झील में पानी कम हुआ है लेकिन इसका स्तर अब भी खतरे के निशान से ऊपर है.

इमेज कॉपीरइट AP

उन्होंने बताया, ''सेना ने राहत और बचाव के लिए अपनी 329 टुकड़ियां लगाई हैं. इनमें से 244 टुकड़ियां तो श्रीनगर में ही काम कर रही हैं और 85 टुकड़ियां जम्मू में.''

बाढ़ से पूरे राज्य में सबसे प्रभावित इलाका श्रीनगर ही बताया जाता है, जहां राहत एवं बचाव कार्य अब भी जोरों पर चलाया जा रहा है. अब भी ऐसे इलाक़े पानी में डूबे हुए हैं जो झेलम नदी के किनारे पर हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार