हिंदी साहित्य सम्मेलन या साड़ी सेल सेंटर?

विदर्भ हिंदी साहित्य सम्मेलन, नागपुर इमेज कॉपीरइट SANJEEV CHANDAN

देश के पहले प्रधानमंत्री पंडित जवाहर लाल नेहरु ने पांच जनवरी 1954 को तत्कालीन मध्यप्रदेश का हिस्सा रहे नागपुर में 'मध्यप्रदेश हिंदी साहित्य सम्मेलन' का शिलान्यास किया था.

और ठीक इसके आठ महीने बाद 19 सितंबर 1956 को पहले राष्ट्रपति डॉक्टर राजेन्द्र प्रसाद ने उसका उद्घाटन किया था. आज नागपुर में 'मोर भवन' के नाम से प्रसिद्ध यह सम्मेलन 'विदर्भ हिंदी साहित्य सम्मलेन' कहलाता है.

हिंदी दिवस के मौक़े पर पढ़िए संजीव चंदन का विश्लेषण

शहर के केंद्र में बसे इस ऐतिहासिक और सर्वकालिक महत्व के संस्थान की एक और पहचान है, इसके प्रवेश द्वारों पर लगे सेल, जिनमें अधिकांश साड़ियों के सेल हैं.

इस संस्थान की मुख्य पहचान इसके अपने साहित्यिक गतिविधियों से कम और इसकी व्यावसायिक गतिविधियों से ज़्यादा होती है.

इसके अलग–अलग हॉल भी विविध कार्यक्रमों के लिए किराए पर दिए जाते हैं. यह संस्थान साहित्य की समृद्धि से ज़्यादा नौकरी देने के लिए कोचिंग चलाने में रुचि ले रहा है.

वित्त प्रबंधन के लिए इसीलिए यहाँ एक जेनरल मैनेजर भी नियुक्त किया गया है .

हिंदी का प्रचार

इमेज कॉपीरइट SANJEEV CHANDAN

प्रस्तावित विदर्भ राज्य की प्रस्तावित राजधानी नागपुर मराठी भाषी इलाक़े का केंद्र है. इसीलिए यहाँ हिंदी भाषा और साहित्य के प्रचार-प्रसार के लिए ऐसी कई संस्थाएं बनाई गई हैं.

नागपुर से 80 किलोमीटर दूर वर्धा में महात्मा गांधी ने 1936 में हिंदी के प्रचार-प्रसार के लिए एक संस्थान राष्ट्रभाषा प्रचार समिति की स्थापना की थी.

नागपुर में भी एक राष्ट्रभाषा प्रचार समिति है, जिस पर वर्धा वाली समिति का अपना दावा है. सवाल है कि ये संस्थाएं हिंदी के लिए क्या कर रही हैं?

साहित्यकारों की राय

इमेज कॉपीरइट SANJEEV CHANDAN

विदर्भ हिंदी साहित्य सम्मलेन की कार्यप्रणाली से ख़फ़ा हिंदी के कवि और जनवादी लेखक संघ के सदस्य वसंत त्रिपाठी कहते हैं, "इसकी प्रभावी सक्रियता के बारे में कभी सुना था. आज तो यह मृतप्राय है. शहर या आस–पास के जन सरोकारी साहित्यकारों से इसका कोई संपर्क नहीं है. ख़ानापूर्ती के कार्यक्रम ज़रूर होते हैं."

प्रगतिशील लेखक संघ के सदस्य पुष्पेन्द्र फाल्गुन कहते हैं, "विवादों में फंसी संसाधनहीन नागपुर की राष्ट्रभाषा प्रचार समिति इससे बेहतर काम करती है. संसाधन संपन्न विदर्भ हिंदी साहित्य सम्मलेन नामालूम साहित्यकारों का अड्डा है."

उर्दू के प्राध्यापक और साहित्यकार फ़िरोज़ हैदरी कहते हैं , "राष्ट्रभाषा समिति तो कम से कम बच्चों के बीच वैज्ञानिक चेतना फैलाने का काम कर लेती है, विदर्भ हिंदी साहित्य सम्मलेन एक व्यावसायिक केंद्र भर है."

आरोपों का खंडन

इमेज कॉपीरइट SANJEEV CHANDAN

इन आरोपों का खंडन करते हुए विदर्भ हिंदी साहित्य सम्मलेन के उपाध्यक्ष और वरिष्ठ पत्रकार उमेश चौबे कहते हैं कि किसी संस्थान को चलाने के लिए धन की आवश्यकता होती है.

उन्होंने कहा, "महाराष्ट्र सरकार इसे महज़ सात हज़ार पांच सौ रुपये देती है. हम हर वर्ष लेखन शिविर से लेकर बड़े कार्यक्रमों का आयोजन करते हैं, अलग–अलग ज़िलों में भी सक्रिय हैं."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार