अब घुसपैठ रोकने में कुत्ते करेंगे मदद!

नियंत्रण रेखा पर घुसपैठ रोकने के लिए खास तौर पर प्रशिक्षित किए गए कुत्ते इमेज कॉपीरइट Other

भारतीय सेना ने पाकिस्तान सीमा पर प्रशिक्षित फौजी श्वान दस्ता यानी डॉग स्क्वॉयड तैनात करने का फ़ैसला लिया है.

नियंत्रण रेखा पर घुसपैठियों का तुरंत पता लगाने के लिए इन प्रशिक्षित कुत्तों के अंगों में जीपीएस और वायरलैस माइक्रोफ़ोन जैसे अत्याधुनिक उपकरण लगाए जाएंगे.

भारत पाकिस्तान सीमा और नियंत्रण रेखा पर घुसपैठ की बढ़ती घटनाओं पर अंकुश लगाने के लिए यह पहल की गई है.

कुत्तों में सूंघने की अनूठी शक्ति होती जिससे वो छुपी हुई वस्तुओं का पता आसानी से लगा लेते है.

तीन महीने की ट्रेनिंग

सीमा पर तैनात किए जा रहे इन कुत्तों को इसका विशेष प्रशिक्षण दिया गया है.

मेरठ स्थित सेना के प्रतिष्ठित रिमाउंट एंड वेटेनरी कोर (आरवीसी) के प्रशिक्षण केन्द्र में इन कुत्तों को ट्रेन किया गया है.

इमेज कॉपीरइट Other

आरवीसी मेरठ के कमांडेंट मेजर जनरल जगविंदर सिंह ने बताया कि सेना की उत्तरी कमान ने आरवीसी से ऐसे कुत्ते प्रशिक्षित करने की मांग की थी जो नियंत्रण रेखा पर घुसपैठ रोकने में सेना की मदद कर सकें.

उन्होंने बताया कि इसी के तहत जर्मन शेफ़र्ड कुत्तों की ट्रेनिंग तीन माह पहले शुरू की गई थी.

इमेज कॉपीरइट Other

चेतावनी

मेजर जनरल सिंह ने बताया कि नियंत्रण रेखा के लिए ख़ास तौर पर प्रशिक्षित कुत्ते एक स्लाइडिंग चेन के साथ 800 मीटर तक घूम कर निगेहबानी कर सकेंगे और 300 मीटर दूरी तक किसी भी गतिविधि पर नज़र रखने में सक्षम होंगे.

इमेज कॉपीरइट KAMRAN ZUBERI
Image caption इन कुत्तों को जीपीएस तकनीक से लैस किया जाना है.

उन्होंने बताया कि रात में कुत्तों की नज़र इंसानों से कहीं बेहतर होती है इसलिए इन्हें छह-छह घंटे की पाली में ड्यूटी देने के लिए तैनात किया जाएगा.

आरवीसी के प्रशिक्षक कर्नल देवेंद्र सिंह ने बताया कि घुसपैठ की कोशिश होते ही कुत्ते से चेतावनी मिल जाएगी और उसे रोका जा सकता है.

उन्होंने कहा कि इससे अधिकांश सैनिक नियंत्रण रेखा से दूर रहकर ही कुतों के ज़रिए निगरानी कर पाने में सक्षम होंगे.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार