भागवत के भाषण पर विवाद, लेकिन मोदी ख़ुश

इमेज कॉपीरइट AFP

आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत के विजयदशमी भाषण को दूरदर्शन पर दिखाए जाने पर विवाद शुरु हो गया है जहां प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भाषण का समर्थन किया है वहीं कांग्रेस और वामपंथी दलों ने इसे सरकारी चैनल का दुरुपयोग करार दिया है.

भाषण के सीधे प्रसारण की हिमायत करते हुए सूचना प्रसारण मंत्री प्रकाश जावेड़कर ने कहा कि लोग आरएसएस प्रमुख को सुनना चाहते हैं.

उन्होंने कहा, "सवाल तो ये उठना चाहिए कि अब तक इस वार्षिक कार्यक्रम को क्यों नहीं दिखाया जाता था."

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ट्वीट किया कहा है कि आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत ने अपने भाषण में सामाजिक सुधारों के जो मुद्दे उठाए हैं वो आज भी प्रासंगिक हैं.

प्रधानमंत्री मोदी ने अपने निजी ट्विटर अकाउंट पर भागवत के भाषण का लिंक भी सांझा किया है.

संघ प्रमुख ने अपने भाषण में केरल में जिहादी गतिविधियों और गोरक्षा जैसे संवेदनशील मुद्दों का ज़िक्र किया था.

विवाद

इमेज कॉपीरइट Narendramodi

आज सुबह विख्यात इतिहासकार रामचंद्र गुहा ने ट्वीट किया कि आरएसएस सरसंघचालक मोहन भागवत के विजयदशमी भाषण की लाइव कवरेज सरकारी मशीनरी का खतरनाक दुरुपयोग है.

कांग्रेस के प्रवक्ता संदीप दीक्षित का कहना था, "एक घंटे का यह ब्रॉडकास्ट ख़तरनाक परंपरा है. आरएसएस ऐसा संगठन नहीं है जो निष्पक्ष रहा हो. यह विवादित संगठन रहा है.’’

कांग्रेस के अन्य नेताओं राशिद अल्वी और सलमान खुर्शीद ने भी भागवत का भाषण डीडी पर दिखाए जाने की आलोचना की है.

मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी का कहना था कि आरएसएस विजयदशमी का उपयोग अपनी हिंदुत्व की विचारधारा थोपने के लिए करता है और राष्ट्रीय चैनल को आरएसएस जैसे संगठनों के प्रमुखों का भाषण लाइव करने की कोई ज़रूरत नहीं थी.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार