ओडिशा, आंध्र की ओर बढ़ रहा है हुदहुद

ओडीशा, पायलिन इमेज कॉपीरइट Reuters

बंगाल की खाड़ी में उठा चक्रवाती तूफ़ान हुदहुद भारत के दक्षिण-पूर्व के तटीय क्षेत्रों की तरफ़ आगे बढ़ने के साथ-साथ और मज़बूत हो रहा है.

हुदहुद रविवार तक ओडिशा और आंध्र प्रदेश के तटवर्ती इलाक़ों से टकरा सकता है.

अधिकारियों का कहना है कि शक्तिशाली तूफ़ान के दक्षिण-पूर्व तटीय क्षेत्रों से टकराने से पहले लोगों को सुरक्षित स्थानों तक पहुंचाने और राशन इकट्ठा करने की योजना पर काम जारी है.

बचाव की तैयारी

विशाखापत्तन के एक वरिष्ठ अधिकारी एन युवराज ने समाचार एजेंसी रॉयटर्स से कहा, "हम सभी तरह की ज़रूरी सामग्री जुटा रहे हैं ताकि लोगों को राशन की आपूर्ति की जा सके."

उन्होंने कहा, "हमने मछुआरों को समुद्र में न जाने की चेतावनी जारी की है."

इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption ओडिशा में पिछले साल आए पायलिन तूफ़ान के कारण लाखों लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया गया था

मौसम विभाग के अनुसार हुदहुद के कारण 140 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ़्तार से तेज़ हवाएं चल सकती हैं.

तूफ़ान से पैदा होने वाले हालात का सामना करने के लिए राष्ट्रीय आपदा राहत बल (एनडीआरएफ़) की 35 टीमों को इन दोनों राज्यों में भेजा गया है.

पिछले साल अक्टूबर में आए चक्रवाती तूफ़ान पायलिन के कारण ओडिशा और आंध्र प्रदेश में पाँच लाख़ से ज़्यादा लोगों को सुरक्षित स्थानों तक पहुंचाया गया था. इस तूफ़ान के कारण भारी तबाही मची थी.

ओडिशा में 1999 में आए एक चक्रवाती तूफ़ान में 10,000 से ज़्यादा लोगों की मौत हो गई थी.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार