सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाने का काम जारी

चक्रवाती तूफ़ान इमेज कॉपीरइट AP

भारत के दक्षिण पूर्वी राज्यों में चक्रवाती तूफ़ान हुदहुद के ख़तरे को देखते हुए बड़ी तादाद में लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाने का काम जारी है.

आंध्र प्रदेश के तटीय इलाक़ों से क़रीब डेढ़ लाख लोग पहले ही अपना घर छोड़ चुके हैं.

भारत के मौसम विभाग के अनुसार बंगाल की खाड़ी से उठा चक्रवाती तूफ़ान विकराल रूप ले रहा है और इसके रविवार को ओडिशा और आंध्र प्रदेश के तटों तक पहुंचने की आशंका है.

मौसम विभाग के अनुसार तूफ़ान की रफ़्तार 195 किलोमीटर प्रति घंटा तक हो सकती है.

आपदा टीमें

ओडिशा में अधिकारियों का कहना है कि वे तीन लाख और लोगों को सुरक्षित स्थानों पर जाने को कह सकते हैं.

इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption चक्रवाती तूफ़ान हुदहुद तेज़ी से आंध्र प्रदेश और ओडिशा की तरफ बढ़ रहा है

तूफ़ान से तबाही की आशंका को देखते हुए नौसेना को सहायता के लिए तैयार रहने को कहा गया है.

आपदा राहत टीमों को पहले ही आंध्र प्रदेश और ओडिशा में भेज दिया गया है.

मौसम विभाग की ताज़ा रिपोर्ट के अनुसार तूफ़ान के तट पर टकराने के साथ ही समुद्र में स्थितियां और ख़राब हो जाएंगी.

मौसम विभाग ने चेतावनी दी है कि विशाखापटनम, विजयनगरम, श्रीकाकुलम के निचले इलाक़ों में पानी भर सकता है.

तैयारियां पूरी

विशेष राहत कमिश्नर प्रदीप कुमार मोहपात्रा ने कहा है कि प्रशासन पूरी तरह तैयार है.

इमेज कॉपीरइट EPA

मोहपात्रा ने कहा, "प्रशासन पूरी तरह तैयार है. वरिष्ठ सरकारी अधिकारियों ने स्पष्ट आदेश दिया है कि जहां भी आवश्यकता हो, लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया जाए."

शनिवार को तूफ़ान विशाखापत्तनम से 330 किलोमीटर दूर दक्षिणपूर्व में था.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार