विशाखापत्तनम: पटरी पर ज़िंदगी

विशाखापत्तनम हवाई अड्डा इमेज कॉपीरइट EPA

समुद्री तूफ़ान हुदहुद से तबाह विशाखापत्तनम शहर में अब ज़िंदगी धीरे-धीरे पटरी पर लौटती दिख रही है.

शहर के लगभग 50 फ़ीसदी इलाक़े में बिजली-पानी की आपूर्ति बहाल कर दी गई है.

विशाखापत्तनम बंदरगाह, विज़ाग स्टील प्लांट, अस्पताल और दूसरी ज़रूरी सेवाएं सामान्य हो चुकी हैं.

अधिकारियों के मुताबिक़ अगले तीन दिन में शहर के बाक़ी हिस्सों में भी बिजली बहाल कर दी जाएगी.

दमकल विभाग के अधिकारी सनातन महापात्र ने बीबीसी को बताया कि तूफ़ान में उखड़े पेड़ों में से 80 फ़ीसदी साफ़ कर लिए गए हैं और अगले दो दिनों में यह काम पूरा कर लिया जाएगा.

हवाई सेवा बहाल

इमेज कॉपीरइट Reuters

नई दिल्ली से एक विमान के विशाखापत्तनम पहुंचने के साथ ही तूफ़ान के बाद से बंद पड़ी हवाई सेवा भी दोबारा शुरू हो गई है.

विशाखापत्तनम हवाई अड्डे के निदेशक सी पट्टाभि ने बीबीसी को बताया कि एक नवंबर तक हवाई सेवाएं पूरी तरह सामान्य हो जाएंगी.

बंदरगाह से मालवाहक जहाज़ों का आना-जाना भी दोबारा शुरू हो गया है. चीन से आया एक जहाज़ यहां पहुंचा है.

टेलीफ़ोन और इंटरनेट सेवाओं का अभी सामान्य होना बाक़ी है.

मुख्यमंत्री चंद्रबाबू नायडू की ओर से मोबाइल ऑपरेटरों को तत्काल सेवाएं बहाल करने की हिदायत देने के बाद अब इस काम में भी तेज़ी आई है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार