महाराष्ट्र-हरियाणा में किसकी बनेगी सरकार

महाराष्ट्र और हरियाणा में विधानसभा चुनावों के लिए मतगणना का काम शुरू हो गया है और थोड़ी देर में रुझान आने की संभावना है.

इन राज्यों में 15 अक्टूबर को वोट डाले गए थे. दोनों ही राज्यों में कांग्रेस की प्रतिष्ठा दांव पर लगी है.

हरियाणा में जहां पिछले दस साल से कांग्रेस की सरकार है वहीं महाराष्ट्र में वो एनसीपी के साथ मिलकर पंद्रह साल से सत्ता में बनी हुई है.

नतीजों को लेकर इसलिए भी दिलचस्पी अधिक है क्योंकि कोई भी बड़ी पार्टी किसी दूसरी पार्टी के साथ मिलकर चुनाव नहीं लड़ रही है, बल्कि महाराष्ट्र में वर्षों पुराने दोनों मुख्य गठबंधन टूट चुके हैं.

90 सदस्यों वाली हरियाणा विधानसभा में सरकार बनाने के लिए जहां 46 का जादुई आंकड़ा जुटाना है, वहीं 288 सदस्यों वाली महाराष्ट्र विधानसभा में सरकार बनाने के लिए 145 विधायकों की ज़रूरत होगी.

मोदी लहर?

महाराष्ट्र में मुक़ाबला कांग्रेस, भाजपा, शिवसेना और एनसीपी में है, वहीं हरियाणा में कांग्रेस, भाजपा, इनेलो और हरियाणा जनहित कांग्रेस आमने-आमने हैं.

इमेज कॉपीरइट Reuters

बीते बुधवार को हरियाणा में 76.54 प्रतिशत मतदाताओं ने अपने मताधिकार का प्रयोग किया तो महाराष्ट्र में 63.13 प्रतिशत मतदान हुआ था.

ये नतीजे इसलिए भी अहम है क्योंकि केंद्र में नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में भाजपा की सरकार बनने के लगभग पांच महीने बाद ये चुनाव हुए हैं.

इसलिए इन्हें प्रधानमंत्री मोदी की लोकप्रियता के पैमाने के तौर पर भी देखा जा रहा है.

हालांकि चुनावी सर्वेक्षणों में भारतीय जनता पार्टी को फ़ायदा और कांग्रेस को भारी नुक़सान की भविष्यवाणियां की गई हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार