महाराष्ट्र: भाजपा को एनसीपी का समर्थन

इमेज कॉपीरइट Other

राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) ने कहा है कि वह महाराष्ट्र में भाजपा को सरकार बनाने के लिए बाहर से समर्थन देने के लिए तैयार है.

महाराष्ट्र विधानसभा चुनावों में भाजपा सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरी है.

एनसीपी के नेता प्रफुल्ल पटेल ने संवाददाताओं से कहा, "केंद्र में भी भाजपा की सरकार है, ऐसे में यहां भी एक स्थाई सरकार के लिए एनसीपी भाजपा को बाहर से समर्थन देने के लिए तैयार है."

कुल 288 सीटों में बीजेपी को 122 सीटें मिली है यानी सरकार बनाने के लिए उसे अभी 23 सीटों की ज़रूरत होगी.

भाजपा का दावा

महाराष्ट्र में भाजपा के अध्यक्ष देवेंद्र फड़नवीस ने कहा कि राज्य में भाजपा की सरकार बनेगी.

उन्होंने संवाददाताओं से कहा, "महाराष्ट्र में भाजपा का मुख्यमंत्री होगा. इसका फ़ैसला दिल्ली में भाजपा संसदीय बोर्ड करेगा."

एनसीपी के बाहर से समर्थन देने के प्रस्ताव पर उन्होंने कहा, "पार्टी प्रस्ताव पर विचार करेगी और अगले 2-3 घंटे में स्थिति साफ़ हो जाएगी."

शिवसेना ने अकेले दम पर राज्य में दूसरे नंबर की पार्टी बन कर उभरी है. ऐसे में ज़ाहिर है कि राज्य में सरकार के गठन को लेकर अटकलबाज़ियों का दौर शुरू हो गया है. फ़िलहाल राजनीतिक विश्लेषक महाराष्ट्र में सरकार गठन के लिए तीन संभावनाओं का ज़िक्र कर रहे हैं.

भाजपा ससंदीय बोर्ड की बैठक दिल्ली में शाम छह बजे होने वाली है जिसके बाद सही तस्वीर सामने आएगी. फ़िलहाल तीनों संभावनाओं पर डालते हैं एक नज़र.

सीन- एक: भाजपा-शिवसेना का गठबंधन (170 प्लस सीट)

एक बड़ा सवाल यह है कि क्या भाजपा-शिवसेना नतीजों के बाद क्या एक बार फिर साथ-साथ आएंगी?

अगर ऐसा होता है तो निश्चित तौर पर भाजपा-शिवसेना गठबंधन स्थायी सरकार बनाने में कामयाब होगा.

हालांकि चुनाव अभियान के दौरान जिस तरह से भाजपा और शिवसेना ने एक दूसरे पर निशाना साधा है, उसे देखते हुए दोनों के फिर से क़रीब आने की संभावना नहीं दिख रही है.

इमेज कॉपीरइट PTI
Image caption शरद पवार राजनीति के माहिर खिलाड़ी माने जाते हैं.

ऐसे में ये बात तो तय है कि शिवसेना अब किंग मेकर की भूमिका में नज़र आ रही है.

सीन- दो: भाजपा-एनसीपी गठबंधन (160 प्लस सीट)

भाजपा की कोशिश शिवसेना के अलावा दूसरे राजनीतिक दलों की ओर भी है. ऐसे में एनसीपी की भूमिका भी बेहद अहम होने वाली है.

शरद पवार राजनीति के माहिर खिलाड़ी हैं. नफ़े नुक़सान का विश्लेषण कर वह कोई भी चौंकाने वाला फ़ैसला कर सकते हैं.

चुनाव पूर्व सर्वेक्षण के सभी आकलनों में कांग्रेस और एनसीपी की हार का अनुमान लगाया गया था. लेकिन दोनों पार्टियां ने उम्मीद से कहीं बेहतर प्रदर्शन किया है.

फिर भी दोनों आपस में मिलकर भी बहुमत के आसपास नहीं पहुंच पाई हैं.

सीन- तीन: शिवसेना-एनसीपी गठबंधन ( 100 प्लस सीट)

महाराष्ट्र में सरकार बनाने के लिए शिवसेना और एनसीपी भी एक दूसरे के क़रीब आ सकते हैं. हालांकि दोनों मिलकर भी बहुमत हासिल करते नज़र नहीं आ रहे.

लेकिन भाजपा को रोकने के नाम पर एक गैर-भाजपा गठबंधन खड़ा करने की मुहिम शिवसेना और एनसीपी शुरू कर सकती हैं.

ऐसे में शिवसेना की ओर हाथ बढ़ाने में बीजेपी के मैनेजरों की भूमिका आने वाले दिनों में काफ़ी अहम हो जाएगी.

मौजूदा समीकरणों में यही तीन संभावना दिख रही है, लेकिन संभावनाओं के बनने और बिगड़ने का ही दूसरा नाम राजनीति है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार