भाजपा ने समर्थन मांगा तो विचार: उद्धव

उद्धव ठाकरे इमेज कॉपीरइट PTI

शिवसेना के प्रमुख उद्दव ठाकरे ने कहा है कि महाराष्ट्र में सरकार बनाने के लिए भाजपा से कोई प्रस्ताव आएगा तो वो समर्थन पर विचार करेंगे.

महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव में किसी भी पार्टी को स्पष्ट बहुमत नहीं मिला है और भाजपा सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरी है.

चुनाव से ठीक पहले सीटों के बंटवारे पर मतभेद के चलते भाजपा और शिवसेना का 25 साल पुराना गठबंधन टूट गया था.

अपने निवास स्थान 'मातोश्री' में मीडिया से बातचीत करते हुए उन्होंने कहा, "मैंने किसी को कोई प्रस्ताव नहीं दिया है. अगर भाजपा से प्रस्ताव आता है तो शिवसेना समर्थन पर विचार करेगी."

यह पूछने पर कि वह ख़ुद क्यों नहीं समर्थन की पहल करते उन्होंने कहा, "भाजपा ने समर्थन ठुकरा दिया तो मैं क्या करूंगा."

उद्धव ठाकरे ने कहा कि शिव सेना विकास के मुद्दे पर समर्थन देगी लेकिन फ़िलहाल वो शांति से अपने घर में बैठे हुए हैं.

अहंकार नहीं

इमेज कॉपीरइट PTI

उन्होंने कहा कि अहंकार की कोई बात नहीं है और वह भाजपा से रिश्ता बनाए रखना चाहते हैं.

भाजपा को बाहर से समर्थन देने की एनसीपी की पहल पर उन्होंने उलटा सवाल किया, "अगर भाजपा एनसीपी के साथ जाए तो मैं क्या करूं."

शिवसेना के भाजपा को बाहर से समर्थन देने के सवाल पर उन्होंने कहा, "बाहर से समर्थन का क्या मतलब होता है?"

नारायण राणे और राज ठाकरे पर हमला बोलते हुए उद्धव ठाकरे ने कहा, "बाला साहेब को जिन्होंने दुख पहुंचाया है उनका बुरा हाल हुआ है."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार