क्षेत्रीय दलों का भविष्य?

नरेंद्र मोदी इमेज कॉपीरइट AP

कुछ समय पहले तक कहा जाता था कि ये वक़्त गठबंधन राजनीति का है, लेकिन जिस तेज़ी से नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में भारतीय जनता पार्टी ने कुछ प्रदेशों में क्षेत्रीय दलों को दरकिनार करते हुए चुनावी सफलता दर्ज की है, उससे क्षेत्रीय दलों के लिए कई सवाल खड़े हुए हैं.

महाराष्ट्र में शिवसेना का क़द घटा है. केंद्र की राजनीति से समाजवादी पार्टी, बहुजन समाज पार्टी का प्रभाव ख़त्म हुआ है. वामपंथी पार्टियां दरकिनार हुई हैं.

कुछ दलों को छोड़ दें, तो राष्ट्रीय राजनीति में क्षेत्रीय दल का दबदबा कम हुआ है.

25 अक्टूबर के इंडिया बोल में बहस विभिन्न क्षेत्रीय दलों के भविष्य पर.

क्या भाजपा के उदय के बाद गठबंधन राजनीति का दौर ढलान पर है?

कार्यक्रम में हिस्सा लेने के लिए भारतीय समयानुसार साढ़े सात बजे इन मुफ़्त नंबरों पर फ़ोन करें – 1800 11 7000 और 1800-102-7001 या अपने नंबर ईमेल करें bbchindi.indiabol@gmail.com पर.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)