भारत के विकास ने पकड़ी रफ़्तारः विश्व बैंक

भारत निर्माण उद्योग इमेज कॉपीरइट BBC World Service

विश्व बैंक का कहना है कि आर्थिक सुधार बढ़ने के साथ ही भारत के विकास ने रफ़्तार पकड़ ली है और देश के दीर्घकालिक विकास की संभावनाएं उज्जवल हैं.

भारतीय अर्थव्यवस्था के छमाही विश्लेषण में कहा गया कि औद्योगिक हालत में सुधार के चलते आर्थिक विकास में तेज़ी आई है.

विश्व बैंक ने वित्त वर्ष 2014-15 के लिए आर्थिक विकास की दर 5.6 फ़ीसदी तक बढ़ने के साथ ही और वित्त वर्ष 2015-16 के लिए 6.4 फ़ीसदी और वित्त वर्ष 2016-17 के लिए 7.0 फ़ीसदी रहने का अनुमान लगाया है.

निर्माण क्षेत्र का योगदान

इमेज कॉपीरइट AP

हालांकि अल्पकाल में यह अनुमानों को आंतरिक और बाहरी झटकों से गड़बड़ा सकते हैं लेकिन इस ख़तरे को आर्थिक सुधार पर ज़ोर देकर दूर किया जा सकता है.

रिपोर्ट में कहा गया है कि गुड्स एंड सर्विस टैक्स (जीएसटी) से भारत एक बाज़ार में बदल सकता है और निर्माण क्षेत्र की क्षमता को बढ़ाने से भारत नाटकीय रूप से बढ़ा सकता है.

निर्माण क्षेत्र का पिछले दो दशक से जीडीपी में हिस्सा 16 फ़ीसदी ही है. जबकि ब्राज़ील, चीन, इंडोनेशिया, दक्षिण कोरिया और मलेशिया का निर्माण क्षेत्र वहाँ के जीडीपी का तक़रीबन 20 प्रतिशत है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार