गोवा: भाजपा में नए सीएम को लेकर खींचतान

मनोहर पर्रिकर, भारतीय जनता पार्टी इमेज कॉपीरइट AP

मनोहर पर्रिकर को केंद्रीय मंत्रिमंडल में शामिल किए जाने की संभावनाओं के बीच गोवा में भावी मुख्यमंत्री को लेकर खींचतान जारी है.

अल्पसंख्यक बहुल क्षेत्रों से आने वाले कुछ नेताओं ने मुख्यमंत्री पद के प्रबल दावेदार माने जा रहे राज्य के स्वास्थ्य मंत्री लक्ष्मीकांत परसेकर का पुरज़ोर विरोध करना शुरू कर दिया है.

हालाँकि, भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने पर्रिकर को केंद्र में दिए जाने वाले पद और गोवा के अगले मुख्यमंत्री के नाम को लेकर अब तक कोई आधिकारिक बयान नहीं दिया है.

संदेश प्रभुदेसाई की रिपोर्ट

गोवा में अल्पसंख्यक बहुल विधानसभा क्षेत्रों का प्रतिनिधित्व करने वाले नेताओं का एक गुट अगले मुख्यमंत्री के रूप में उप मुख्यमंत्री फ्रांसिस डिसूज़ा का नाम आगे बढ़ा रहा है.

यह गुट राष्ट्रीय स्वंयसेवक संघ की पसंद बताए जा रहे लक्ष्मीकांत परसेकर को राज्य का नया मुख्यमंत्री बनाए जाने का विरोध कर रहा है.

विधानसभा क्षेत्र सेंट आंद्रे के विधायक विष्णु वाघ ने डिसूज़ा से मुलाक़ात के बाद भाजपा के चार अन्य विधायकों के साथ मिलकर अपनी माँग रखी. उनके साथ माइकल लोबो (कलानगटे), ग्लेन टिक्लो (अल्दोना) और कार्लोस अल्मीदा (वास्को) भी थे.

इमेज कॉपीरइट AFP

वाघ का दावा है कि उन्हें 12-13 विधायकों का समर्थन हासिल है, जिसमें निर्दलीय विधायक और मत्स्य पालन मंत्री एवर्टन फुरटाडो (नावेलिम) और बेंजामिन सिल्वा (वेलिम) शामिल हैं.

दिलचस्प यह है कि यह गुट अगले मुख्यमंत्री के रूप में केवल लक्ष्मीकांत परसेकर के नाम का ही विरोध कर रहा है.

बाक़ी नामों पर ऐतराज़ नहीं

वाघ ने गोवान्यूज़ डॉटकॉम से कहा, "हमें विधानसभा अध्यक्ष राजेंद्र अर्लेकर के नए मुख्यमंत्री बनने पर कोई ऐतराज़ नहीं है. वो दलित तबके से आते हैं. इससे पूरे देश में एक सकारात्मक संदेश जाएगा. लेकिन परसेकर को मुख्यमंत्री बनाने से ऐसा नहीं होगा."

वाघ कहते हैं, "डिसूज़ा पार्टी के सबसे वरिष्ठ नेता और राज्य में अल्पसंख्यक नेताओं में सबसे लोकप्रिय चेहरा हैं. उन्हें प्रशासन और राजनीति दोनों का काफ़ी अनुभव है. वो चार बार विधायक और तीन बार मंत्री रह चुके हैं."

पहली बार विधायक बने वाघ का कहना है कि अगर मंत्रिमंडल में शामिल करने के लिए वरिष्ठता पैमाना है तो मुख्यमंत्री बनाए जाने के लिए ऐसा क्यों नहीं?

परसेकर का विरोध कर रहे ज़्यादातर विधायकों की पृष्ठभूमि संघ या भाजपा की नहीं है. इनमें से कई ने 2012 के चुनावों से ठीक पहले कांग्रेस या दूसरे ग़ैर-भाजपा दलों को छोड़ा था.

दूसरे दलों का साथ

वाघ का कहना है कि परसेकर के कामकाज को लेकर भी विधायक नाराज हैं.

इमेज कॉपीरइट goa assembly
Image caption गोवा में विधायकों के एक गुट को लक्ष्मीकांत परसेकर के नाम पर ऐतराज़ है.

वो कहते हैं, "हमने स्वास्थ्य और पंचायत मंत्री के तौर पर उनका कामकाज देखा है. उन्होंने शायद ही किसी विधायक की मदद की हो."

उनका दावा है कि कई सहयोगी दल भी उनकी माँग का समर्थन कर रहे हैं. वाघ ने दावा किया कि तीन विधायकों वाली महाराष्ट्रवादी गोमांतक पार्टी और दो विधायकों वाली गोवा विकास पार्टी भी उन्हें इस मुद्दे पर समर्थन दे रही हैं.

(संदेश प्रभुदेसाई गोवान्यूज़ डॉटकॉम के संपादक हैं.)

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार