नसबंदीः नए इलाक़े में एक महिला की मौत

छत्तीसगढ़ नसबंदी, महिलाएं इमेज कॉपीरइट alok putul

छत्तीसगढ़ के बिलासपुर में एक नए इलाक़े में नसबंदी के बाद बैगा जनजाति की एक महिला की मौत हो गई है. वहीं नसबंदी के बाद 16 अन्य महिलाएँ अस्पताल में भर्ती हैं.

कुछ ही दिन पहले बिलासपुर के पेंडारी में 83 महिलाओं की नसबंदी के बाद 13 महिलाओं की मौत हो गई थी. कई महिलाएँ अब भी अस्पताल में भर्ती हैं.

जिस नए इलाक़े में 16 महिलाओं को गंभीर हालत में छत्तीसगढ़ आयुर्विज्ञान संस्थान में भर्ती कराया गया वो बिलासपुर का ही गौरेला इलाक़ा है.

बिलासपुर में सोमवार को गौरेला, पेंड्रा और मरवाही में राज्य सरकार के नसबंदी शिविरों में 52 महिलाओं की नसबंदी हुई थी.

सोलह महिलाएँ भर्ती

इमेज कॉपीरइट Alok Putul
Image caption बड़ी संख्या में महिलाओं को छत्तीसगढ़ आयुर्विज्ञान संस्थान में भर्ती कराया गया है

छत्तीसगढ़ में बैगा समुदाय समेत विशेष संरक्षित 5 जनजातियों की नसंबदी पर सरकार ने पूरी तरह से प्रतिबंध लगा रखा है.

लेकिन सोमवार को हुई नसबंदी के बाद इस समुदाय की दो महिलाओं को छत्तीसगढ़ आयुर्विज्ञान संस्थान में गंभीर हालत में भर्ती कराया गया.

इनमें से एक की मौत हो गई जबकि दूसरी महिला का हालत गंभीर है.

बुधवार से गौरेला, पेंड्रा और मरवाही में बड़ी संख्या में महिलाओं की तबीयत बिगड़नी शुरू हो गई है.

इसके बाद पेंड्रा के एसडीएस डॉक्टर अभिमन्यु सिंह ने सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पर छापा मारा और अस्पताल से सिप्रोसिन-500 टेबलेट जब्त किए.

इमेज कॉपीरइट Alok Putul

उन्होंने आशंका जताई कि इसी दवा के कारण महिलाएँ बीमार हुई हैं.

बिलासपुर के पेंडारी में हुई मौतों के बाद राज्य सरकार ने चार डॉक्टरों को निलंबित किया, आपराधिक मामला दर्ज कराया और स्वास्थ्य सचिव का तबादला कर दिया.

इस बीच, महिलाओं की मौत का छत्तीसगढ़ उच्च न्यायालय ने स्वत: संज्ञान लेते हुए राज्य शासन को नोटिस जारी किया है.

(बीबीसी हिंदी का एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें. आप ख़बरें पढ़ने और अपनी राय देने के लिए हमारे फ़ेसबुक पन्ने पर भी आ सकते हैं और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार