रामपाल के ख़िलाफ़ अभियान जारी रहेगा: खट्टर

रामपाल समर्थक इमेज कॉपीरइट EPA
Image caption रामपाल के आश्रम में महिलाओं और बच्चों को ढाल बनाकर रखा गया है.

हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने कहा है कि धर्मगुरु रामपाल के गिरफ़्तार होने तक पुलिस कार्रवाई जारी रहेगी.

उन्होंने ट्वीट कर कहा, "हरियाणा पुलिस ने रामपाल और उनके कई सहयोगियों पर देशद्रोह के गंभीर आरोप दर्ज किए हैं. जब तक उन्हें आश्रम से गिरफ़्तार नहीं कर लिया जाता तब तक पुलिस की कार्रवाई जारी रहेगी."

उन्होंने ये भी कहा कि सरकार और पुलिस हाई कोर्ट के आदेशों का पालन कराने के प्रति वचनबद्ध है लेकिन इस बात का भी ध्यान रखना है कि निर्दोष लोगों का नुकसान न हो.

मौके पर पहुंचे बीबीसी संवाददाता ज़ुबैर अहमद ने बताया, "चारों तरफ से पुलिस ने आश्रम को घेर रखा है. सड़कों से लेकर खेतों तक और हर तरफ पुलिस ही नज़र आ रही है. आश्रम से निकल रहे लोगों को बसें में बिठाकर वहां से भेजा गया है. फिलहाल शांति है और पुलिस ने अपनी कार्रवाई रोक दी है. अब कल सुबह ही दोबारा अभियान शुरू होगा."

बीबीसी संवाददाता के मुताबिक अभी ठीक ठीक बता पाना मुश्किल है कि आश्रम में कितने लोग हैं लेकिन अनुमान है कि हज़ारों लोग अब भी वहां हैं. इनमें से कुछ तो बाबा के प्रति अपनी श्रद्धा के कारण है लेकिन ज्यादातर लोगों को आश्रमवालों ने रोक कर रखा है.

इमेज कॉपीरइट PTI
Image caption रामपाल के हज़ारों समर्थक अभी भी आश्रम में मौजूद हैं.

ज़ुबैर अहमद के मुताबिक स्थानीय लोगों का बाबा पर बहुत विश्वास नहीं है. कई राज्यों से लोगों के आने के कारण उन्हें दिक्कतें होती हैं. यहां के कार्यक्रमों के कारण ट्रैफिक जाम और दूसरी समस्या होती है इसलिए वो चाहते हैं कि बाबा का आश्रम यहां से हट जाए.

हरियाणा पुलिस के मुताबिक रामपाल के आश्रम में छह मौतें हुई हैं. मरने वालों में पांच महिलाएं और एक बच्चा शामिल है. अभी मौत के कारणों का पता नहीं चल पाया है.

पुलिस के मुताबिक रामपाल आश्रम में ही हैं और उन्हें गिरफ़्तार करने के प्रयास किए जा रहे हैं.

बातचीत की कोशिश

वहीं धर्मगुरू श्री श्री रविशंकर ने का कहना है कि उन्होंने संत रामपाल को समझाने के लिए फ़ोन पर बात करने की कोशिश की लेकिन बात नहीं करवाई गई.

उन्होंने ट्वीट कर बताया कि रामपाल के सचिव ने बार-बार उनका फ़ोन काट दिया.

रविशंकर ने ट्वीट कर कहा, "आस्था का इस्तेमाल अपने निजी हित साधने में करने वाले सभी धर्मों के लोगों से सख़्ती से निपटने की ज़रूरत है. साथ ही बेग़ुनाह नेताओं को बचाए जाने की भी ज़रूरत है. ऐसी घटनाओं से डर का माहौल पैदा होता है और धर्म और आध्यात्मिकता के प्रति घृणा पैदा होती है."

सहयोगी गिरफ़्तार

हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर के प्रवक्ता जवाहर यादव ने मीडिया से कहा है कि सरकार दोषियों को सज़ा दिलाने के लिए प्रतिबद्ध है.

उन्होंने हिसार में मीडिया पर पुलिस कार्रवाई पर भी खेद प्रकट किया.

बुधवार को पुलिस ने रामपाल के कई क़रीबी सहयोगियों को हिरासत में लिया है.

अफ़रा तफ़री

इमेज कॉपीरइट AP

आश्रम में मौजूद रामपाल के एक और क़रीबी सहयोगी भगत बलवान दास ने फ़ोन पर बीबीसी को बताया, "मैं आश्रम में ही हूँ और पिछले कुछ दिनों से गुरू रामपाल से नहीं मिल पाया हूँ. हमारे कई सहयोगियों को आज पुलिस ने हिरासत में लिया है."

उन्होंने बताया कि आश्रम में अफ़रा-तफ़री का माहौल है.

मीडिया रिपोर्टों के मुताबिक रामपाल के क़रीब चार सौ सहयोगियों को हिरासत में लेकर अदालत में पेश किया गया है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप में फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार